निर्भया के दोषियों को फांसी मिलना तय, गृह मंत्रालय ने राष्‍ट्रपति को भेजी दया याचिका

राष्‍ट्रपति के दया याचिका खारिज करते ही निर्भया गैंगरेप केस के सभी आरोपियों को फांसी का रास्‍ता साफ हो जाएगा.

निर्भया गैंगरेप केस के एक दोषी विनय वर्मा की दया याचिका राष्‍ट्रपति के पास भेज दी गई है. गृह मंत्रालय ने याचिका को खारिज करने की सिफारिश की है. राष्‍ट्रपति के ऐसा करते ही सभी दोषियों की फांसी का रास्‍ता साफ हो जाएगा. इस मामले में, निर्भया के माता-पिता ने अदालत में दोषियों को फांसी देने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए याचिका दायर कर रखी है.

16 दिसंबर, 2012 को दक्षिणी दिल्ली के मुनीरका में एक प्राइवेट बस में अपने एक दोस्त के साथ चढ़ी 23 साल की पैरा मेडिकल छात्रा के साथ एक नाबालिग सहित छह लोगों ने चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म और लोहे के रॉड से क्रूरतम आघात किया गया था. इसके बाद गंभीर रूप से घायल पीड़िता और उसके पुरुष साथी को चलती बस से महिपालपुर में बस से नीचे फेंक दिया गया था.

पीड़िता का इलाज पहले सफदर जंग अस्पताल में चला, उसके बाद तत्कालीन शीला दीक्षित सरकार ने बेहतर इलाज के लिए उसे विशेष विमान से सिंगापुर भेजा था, जहां वारदात के 13वें दिन उसने दम तोड़ दिया था.

इस वीभत्स दुष्कर्म कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था. छह आरोपियों में से एक नाबालिग था, जिसे रिमांड होम भेजा गया था, वहीं एक अन्य आरोपी ने तिहाड़ जेल में खुद को फांसी लगा ली थी.

ये भी पढ़ें

यूपी : प्रेमी के कहने पर लड़कों को गैंगरेप केस में फंसाया, ऐसे पकड़ा गया लड़की का झूठ