Nirbhaya Case: दोषी मुकेश की सारी लाइफलाइन खत्म, बाकी तीन के पास क्या हैं विकल्प?

तीनों दोषियों के वकील ने दलील दी कि जेल मैनुअल के मुताबिक अगर किसी एक दोषी की भी याचिका लंबित हो तो बाकी को फांसी नहीं दी जा सकती है.
Nirbhaya rape case, Nirbhaya Case: दोषी मुकेश की सारी लाइफलाइन खत्म, बाकी तीन के पास क्या हैं विकल्प?

निर्भया के दोषियों फांसी पर लटकाने की तय तारीख टल गई है, अब उन्हें 1 फरवरी को फांसी नहीं दी जाएगी. दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की फांसी की सजा पर डेथ वारंट को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया है. दोषियों की फांसी को टालने के लिए उनके वकील तमाम हथकंडे अपना रहे हैं. ऐसे में सवाल ये उठता है कि दोषियों के पास सजा-ए-मौत से बचने के कितने मौके हैं? जानिए…

1- मुकेश की सभी याचिकाएं खारिज हो चुकी हैं, सिर्फ आज मुकेश की वकील वृंदा ग्रोवर ने पटियाला हाउस कोर्ट में डेथ वारंट पर रोक लगाने की एप्लिकेशन लगाई हुई थी.

2- विनय शर्मा की क्यूरेटिव पिटीशन बुधवार को सुप्रीम कोर्ट खारिज कर चुका है, फिर उसकी दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है.

3- अक्षय की तरफ से दया याचिका नहीं दायर की गई है.

4- पवन गुप्ता की तरफ अभी तक न ही क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की और न ही दया याचिका. आज सुबह ही पवन की नाबालिग होने की याचिका सुप्रीम कोर्ट के खारिज़ करने के खिलाफ डाली गई पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है.

विनय की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है, उसे फांसी नहीं दी जा सकती, ये बात जेल प्रशासन की तरफ से कोर्ट में कही गई थी. कोर्ट में सुनवाई के दौरान तीनों दोषियों के वकील ने दलील दी कि जेल मैनुअल यही कहता है कि अगर किसी एक दोषी की भी याचिका लंबित हो तो बाकी को फांसी नहीं दी जा सकती है.

ये भी पढ़ें-

Economic Survey: कमजोर आर्थिक वृद्धि दर, धीमे निवेश से डगमगा रही अर्थव्यवस्था

वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पेश किया इकॉनमिक सर्वे, अगले साल 6-6.5 पर्सेंट रह सकती है GDP ग्रोथ

Related Posts