निर्मला सीतारमण और इंदिरा गांधी में हैं ये दो समानताएं

इंदिरा गांधी के बाद अब निर्मला सीतारमण ने भारतीय राजनीति में बेहद अहम मुकाम हासिल किया है.
निर्मला सीतारमण, निर्मला सीतारमण और इंदिरा गांधी में हैं ये दो समानताएं

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे कार्यकाल के मंत्रिपरिषद में शीर्ष स्‍तर पर बड़े बदलाव किए हैं. स्वास्थ्य कारणों से मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं हो सके अरुण जेटली की जगह सबको आश्चर्य में डालते हुए निर्मला सीतारमण को वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है. निर्मला सीतारमण पहली पूर्णकालिक महिला वित्तमंत्री होंगी.

निर्मला सीतारमण का वित्‍त मंत्री बनना कई मायनों में ऐतिहासिक है. देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बाद वह दूसरी ऐसी महिला हैं जिन्‍हें केंद्र सरकार में इतनी अहम जिम्‍मेदारी मिली है.

इंदिरा और निर्मला, दोनों ने संभाला है रक्षा मंत्रालय

इंदिरा गांधी ने साल 1975 में प्रधानमंत्री रहते हुए रक्षा मंत्रालय का कार्यभार भी देखा था. इंदिरा ने 16 जनवरी 1980 से 15 जनवरी 1982 तक भी रक्षा मंत्रालय संभाला था. इस तरह भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री इंदिरा ही कही जाएंगी. 2017 में मोदी ने जब निर्मला सीतारमण को रक्षा मंत्री बनाया तो वह पूर्णकालिक रक्षा मंत्री के रूप में कार्य करने वाली पहली महिला बनीं.

इंदिरा संभाल चुकीं, अब निर्मला भी देखेंगी वित्‍त मंत्रालय का काम

सीतारमण शुक्रवार को वित्त मंत्रालय की प्रमुख बनने वाली दूसरी महिला बनी हैं, हालांकि वह पूर्णकालिक वित्त मंत्री का पद संभालने वाली पहली महिला हैं. 1970-71 के बीच तत्‍कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने वित्‍त मंत्रालय का अतिरिक्‍त कामकाज भी देखा. सीतारमण उन तीन महिलाओं में शामिल हैं, जो 17वीं लोकसभा में केंद्रीय मंत्रिमंडल का हिस्सा हैं.

JNU से पढ़ी हैं निर्मला सीतारमण

निर्मला सीतारमण ने दिल्‍ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से एम (इकॉनमिक्‍स) की पढ़ाई की है. उन्‍होंने लंदन स्‍कूल ऑफ इकॉनमिक्‍स से एमफिल भी किया है. 2003 में राष्‍ट्रीय महिला आयोग की सदस्‍य बनीं, फिर 2006 में भाजपा में शामिल हो गईं. पार्टी की राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता के तौर पर सीतारमण ने अपनी अलग पहचान बनाई.

2014 में नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उन्‍हें वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय में राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) बनाया गया. वह मोदी सरकार में वित्‍त एंव कॉर्पोरेट मामलों की राज्‍यमंत्री भी रह चुकी हैं.

ये भी पढ़ें

अमित शाह बने मोदी सरकार में नंबर 2, पढ़ें किसे मिला कौन सा मंत्रालय

जब चीन को बैकफुट पर ले आये थे एस. जयशंकर, पढ़ें नए विदेश मंत्री के बारे में दिलचस्प बातें

Related Posts