ऐसा होगा पीएम मोदी के सपनों का ग्रामीण भारत, वित्त मंत्री सीतारमण ने बताई अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 1.25 करोड़ घर बनाए जाएंगे. तकनीक की मदद से एक घर बनाने में सिर्फ 114 दिन लगेंगे.

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण के दौरान ग्रामीण भारत को लेकर काफी कुछ कहा है. उन्होंने 2022 तक हर इच्छुक ग्रामीण परिवार तक बिजली और गैस पहुंचाने की बात कही है.

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा है कि ‘इस साल के अंत तक हर परिवार को छत मिल जाएगी. प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 1.25 करोड़ घर बनाए जाएंगे. तकनीक की मदद से एक घर बनाने में सिर्फ 114 दिन लगेंगे. 2015-16 में 300 से ज्यादा दिन लगे थे.’

इसके अलावा प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना की बात करते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ‘यूनिवर्सल कनेक्टिविटी का लक्ष्य है. 97 प्रतिशत इलाकों तक सड़क बन चुकी है. हर दिन 135 किलोमीटर सड़क बनाई जा रही है. 30 हजार किलोमीटर सड़क क्लीन एनर्जी से बनी है. इसमें इंडस्ट्री वेस्ट का इस्तेमाल किया जा रहा है. यूज्‍ड प्लास्टिक का इस्तेमाल हुआ है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘1.35 लाख किलोमीटर सड़क बनाने का प्रस्ताव है. इस पर 80 हजार करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे. फेज 3 में एक लाख किलोमीटर सड़कों को अपग्रेड भी किया जाएगा. बांस, खादी, शहद से रोजगार मिलेगा. किसानों की इनकम बढ़ाने पर जोर रहेगा. हजारों क्लस्टर बनाए जाएंगे. 2019 में 50 हजार किसानों को जोड़ा गया है. 80 बिजनेस इनक्यूबेटर बनाए जाएंगे. किसानों के लिए सरकार काम कर रही है. तकनीक पर खास जोर है. अन्नदाता, ऊर्जा दाता बनाने के लिए कई कार्यक्रम हैं.’

वित्त मंत्री ने आगे कहा है कि किसानों ने दलहन के उत्पादन में देश को आत्मनिर्भर बना दिया है. ऐसा पिछले डेढ साल में हुआ है. तिलहन में भी ऐसी सफलता मिलेगी. इससे हमारा आयात बिल घटेगा. सरकार राज्यों के साथ मिल कर ई-नैम को मजबूत करेगी. इससे किसानों को उत्पादन की सही कीमत मिलेगी.

उन्होंने आगे कहा, ‘9.6 करोड़ टॉयलेट 2014 के बाद से बनाए गए हैं. हमें और काम करना है. हमें लोगों का मिजाज बदलना है. नए तकनीकों का इस्तेमाल करना है. स्वच्छ भारत मिशन के तहत हर गांव में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट लागू होगा. प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान के तहत दो करोड़ लोगों को फायदा मिला है. हर पंचायत तक इंटरनेट पहुंच रहा है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘ईज ऑफ डूईंग बिजनेस किसानों के लिए भी लागू होती है. हमें और काम करना है. हमें लोगों का मिजाज बदलना है. नए तकनीकों का इस्तेमाल करना है.’

सरकार के प्रत्येक कार्य एवं योजना के केन्द्र में ‘‘गांव, गरीब और किसान’’ होने का दावा करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कहा कि 2022 तक प्रत्येक ग्रामीण परिवार में बिजली का कनेक्शन और स्वच्छ ईधन आधारित रसोई सुविधा होगी.

वित्त मंत्री ने लोकसभा में वित्त वर्ष 2019-20 का आम बजट पेश करते हुए यह बात कही. उन्होंने कहा, ‘‘हम जो भी करते हैं, सरकार के प्रत्येक कार्य एवं प्रत्येक योजना के केन्द्र में गांव, गरीब और किसान होता है.’’

उन्होंने कहा कि जो लोग कनेक्शन नहीं लेना चाहते, उन्हें छोड़कर 2022 तक प्रत्येक ग्रामीण परिवार में बिजली कनेक्शन और स्वच्छ ईधन आधारित रसोई सुविधा होगी.

सीतारमण ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तीसरे चरण में 80,250 करोड़ रूपये की अनुमानित लागत से 1,25000 किलोमीटर सड़कें बनाई जाएंगी.

और पढ़ें- सभी नागरिकों को 2024 तक साफ पीने का पानी देना सरकार की प्राथमिकता: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के तहत 2019-20 से 2021-22 तक पात्रता रखने वाले लाभार्थियों को 1.95 करोड़ मकान मुहैया कराये जाएंगे. इनमें रसोई गैस, बिजली एवं शौचालयों जैसी सुविधा होगी.