प्रियंका गांधी ने पिया गंगाजल तो गडकरी ने क्यों कसा तंज!

प्रियंका यूपी के अलग-अलग क्षेत्रों में चुनावी अभियान के तहत पहुंची थीं. प्रियंका ने प्रयाग की यात्रा के दौरान गंगा नदी की सैर भी की थी. इस दौरान प्रियंका ने गंगा नदी का पानी भी पिया.

नई दिल्ली: कांग्रेस की महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी अब पूरी तरह से सियासत के बोल बोलने लगी है. इतना ही नहीं वो अब तो सियासी दांव पेंच भी बखूबी सीख गई हैं. पिछले दिनों प्रियंका यूपी के अलग-अलग क्षेत्रों में चुनावी अभियान के तहत पहुंची थीं. प्रियंका ने प्रयाग की यात्रा के दौरान गंगा नदी की सैर भी की थी. इस दौरान प्रियंका ने गंगा नदी का पानी भी पिया. प्रियंका के गंगा नदी के पानी पीने पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपने अंदाज में तंज कसा है.

एक हिंदी अखबार को दिए इंटरव्यू में नितिन गडकरी ने कहा, मेरा कोई काम चुनाव को दिशा दे सकता है या नहीं दे सकता है, यह देखना मेरा काम नहीं है. आप लोग उसका मूल्यांकन करें. यदि मैं कहूं कि मेरे काम से चुनाव की दिशा बदलेगी तो यह अहंकार की बात होगी. मैं तो यह मानता हूं कि जो भी करने लायक था, मैंने किया. 11 लाख करोड़ रुपये के रोड प्रोजेक्ट को अवार्ड किया. और सबसे बड़ी बात कि 11 लाख करोड़ रुपये के किसी भी काम के लिए एक भी कांट्रेक्टर को मेरे पास आना नहीं पड़ा. यानि करप्शन फ्री सिस्टम के साथ पूरा काम हुआ.

आगे उन्होंने कहा गंगा जलमार्ग का काम लगभग पूरा हो रहा है. वहां प्रियंका जी इसीलिए जा पाईं क्योंकि हमने जलमार्ग बनाया और पानी इसीलिए पी रही हैं कि क्योंकि हमने पानी शुद्ध किया. डॉल्फिन फिर से दिखने लगा. प्रयागराज मैं गया था तो साइबेरियन पक्षी देखे. कछुए भी दिखने लगे हैं. वाइल्ड लाइफ फिर से आया. हिलसा जो बांग्लादेश की मछली है, प्रयागराज तक आ गई है. अगले मार्च के अंत तक गंगा पूरी तरह निर्मल हो जाएगी.

Related Posts