JIO ग्राहकों के लिए बुरी खबर, अब फ्री नहीं होगी कॉलिंग, प्रति मिनट की दर से देना पड़ेगा चार्ज

जियो ने कहा है कि जब तक टेलिकॉम ऑपरेटरों को अपने यूजर्स द्वारा अन्य ऑपरेटरों के नेटवर्क पर किए गए मोबाइल फोन कॉल के लिए पेमेंट करने की जरूरत पड़ रही है.

नई दिल्ली: ये खबर जियो ग्राहकों के चेहरे मायूस कर देगी. अब जियो ग्राहक दूसरे ऑपरेटर्स पर फ्री-कॉलिंग बंद करने जा रही है. अब जियो ग्राहक अनलिमिटेड पैक रिचार्ज कराने के बावजूद दूसरे टेलिकॉम ऑपरेटर से फ्री में बात नहीं कर पाएंगे. अब जियो यूजर्स को छह पैसे प्रति मिनट की दर से भुगतान करना होगा. यानी अनलिमिटेड पैक लेने पर भी अगर आप अपने जियो नंबर से एयरटेल, वोडाफोन, MTNL, BSNL जैसे दूसरे टेलिकॉम ऑपरेटर के नंबर पर फोन कॉल्स करना चाहते हैं तो आपको अलग से टॉप अप रिचार्ज करवाना होगा.

इस बात की घोषणा करते हुए कंपनी ने कहा है कि 10 अक्टूबर के बाद किए जाने वाले सभी रिचार्ज पर ये शुल्क लागू होगा. दरअसल, कंपनी ने दूसरे टेलिकॉम ऑपरेटर को ऑउट गोइंग के दिए जाने वाले IUC शुल्क को ग्राहकों से वसूलने का फैसला किया है, ये शुल्क TRAI द्वारा तय किया जाता है.

जियो ने एक बयान में कहा है कि जब तक टेलिकॉम ऑपरेटरों को अपने यूजर्स द्वारा अन्य ऑपरेटरों के नेटवर्क पर किए गए मोबाइल फोन कॉल के लिए पेमेंट करने की जरूरत पड़ रही है, तब तक 6 पैसा प्रति मिनट शुल्क ही लागू रहेगा। ये चार्ज जियो यूजर्स द्वारा दूसरे जियो नंबर पर किए गए कॉल और वॉट्सएप, फेसटाइम या ऐसे अन्य प्लेटफॉर्म्स का उपयोग करके किए गए फोन और लैंडलाइन कॉल पर लागू नहीं होगा.

2017 में दूरसंचार नियामक ट्राई ने इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) को 14 पैसे से 6 पैसे प्रति मिनट तक घटा दिया था और कहा था कि इसे जनवरी, 2020 तक खत्म कर दिया जाएगा। अब ट्राई ने रिव्यू के लिए एक कंसल्टेशन पेपर मंगवाया है कि क्या इस टाइमलाइन को बढ़ाने की जरूरत है। चूंकि जियो नेटवर्क पर वॉइस कॉल फ्री हैं, इसलिए कंपनी को भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसे ऑपरेटर्स को किए गए कॉल्स के लिए 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ा है.

ट्राई की ओर से टर्मिनेशन चार्ज शून्य न किए जाने तक कस्टमर्स को यह कॉलिंग चार्ज देना पड़ेगा. हालांकि, इस रकम के बदले आईयूसी टॉप-अप वाउचर की खपत के हिसाब से उतना ही डेटा यूजर्स को एक्सट्रा दिया जाएगा. जियो ने बताया कि आईयूसी फीस के तौर पर पिछले तीन साल में कंपनी ने एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया जैसे राइवल टेलिकॉम ऑपरेटर्स को लगभग 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान अब तक किया है.