17वीं लोकसभा में सिर्फ 25 मुस्लिम सांसद, BJP के 303 में से एक भी मुसलमान नहीं

16वीं लोकसभा में जहां कुल 23 मुस्लिम सांसद थे, वहीं 17वीं लोकसभा में यह आंकड़ा बढ़कर 25 हो गया.

नई दिल्‍ली: देश की 17वीं लोकसभा के 542 सांसद चुन लिए गए हैं. जो परिणाम आए हैं, उसके मुताबिक 17वीं लोकसभा में केवल 25 मुस्लिम सांसद होंगे. कुल जनसंख्‍या में 14 फीसदी की हिस्‍सेदारी रखने वाले मुसलमानों का निचले सदन में प्रतिनिधित्‍व 5 प्रतिशत से भी कम रहेगा. 2014-2019 के बीच 16वीं लोकसभा में 23 मुस्लिम सांसद ही थे. 303 सीटों पर कब्‍जा जमाती दिख रही भाजपा से एक भी मुस्लिम सांसद चुनकर नहीं आया है.

2019 में BJP ने कुल छह मुस्लिम उम्‍मीदवार उतारे, जिनमें से एक भी जीत न सका. करीब 27 फीसदी मुस्लिम आबादी वाले पश्चिम बंगाल में पार्टी दो मुस्लिम उम्‍मीदवार उतारे थे. 95 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम जनसंख्‍या वाले लक्षद्वीप से भी बीजेपी ने इसी समुदाय का उम्‍मीदवार उतारा. मुस्लिम बहुल कश्‍मीर घाटी में पार्टी ने तीन मुसलमानों को टिकट दिया था.

उत्‍तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के छह मुस्लिम सांसद होंगे. इसके बाद सबसे ज्‍यादा मुस्लिम सांसद पश्चिम बंगाल से आ सकते हैं. कश्‍मीर घाटी की तीनों सीटें नेशनल कॉन्‍फ्रेंस के कब्‍जे में गई हैं. कांग्रेस की तरफ से पांच मुस्लिम सांसद 17वीं लोकसभा में बैठेंगे. लेफ्ट फ्रंट का एक मुस्लिम सांसद केरल से है.

एक बार फिर चला ‘मोदी मैजिक’

नरेंद्र मोदी की अगुवाई में भाजपा एक बार फिर पांच वर्षो के लिए सत्ता में काबिज होने जा रही है. विपक्ष इस बार भी चारों खाने चित्त हो गया. कई ऐसे राज्‍य हैं जहां से मुख्‍य विपक्षी दल कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया है. बीजेपी ने जिन तीन बड़े राज्‍यों में पिछले साल विधानसभा चुनावों में पटखनी खाई थी, वहां उसने शानदार और एकतरफा वापसी की है. यहां तक कि तृणमूल कांग्रेस शासित पश्चिम बंगाल में भी भाजपा ने जबरदस्त बढ़त हासिल की है.

ये भी पढ़ें

5 साल सरकार चलाने के बाद दोबारा सत्‍ता में आने वाले तीसरे प्रधानमंत्री हैं नरेंद्र मोदी

लोकसभा चुनाव रिजल्ट: मतदाताओं का वंशवाद पर कड़ा प्रहार, बड़े नेताओं के परिजनों को चटाई धूल