ज‍हां पत्‍नी DCP वहीं पति एडिशनल DCP : बचपन में साथ की पढ़ाई, IPS बनते ही कर ली शादी

अंकुर अग्रवाल अंबाला शहर के मूल निवासी हैं, जबकि वृन्दा शुक्ला पंचकुला की रहने वाली हैं. अंकुर और वृंदा ने बचपन में एक साथ कई वर्षों तक अंबाला कान्वेंट जीसस एंड मैरी स्कूल में पढ़ाई की है.

उत्तर प्रदेश के लखनऊ और नोएडा में कमिश्नरेट लागू होने के बाद एक आईपीएस दंपति सुर्खियों में हैं. हम बात कर रहे हैं IPS अंकुर अग्रवाल और IPS वृंदा शुक्ला की जो हरियाणा के रहने वाले हैं. नोएडा में कमिश्नरेट सिस्टम शुरू होने के बाद वृंदा को यहां डीसीपी के रूप में पोस्टिंग मिली है और अंकुर अभी यहां एडिशनल डीसीपी हैं.

2016 बैच के आईपीएस अंकुर अग्रवाल नोएडा के एसपी सिटी थे जो कमिश्नरेट सिस्टम में वे एडिशनल डीसीपी (अपर पुलिस उपायुक्त) हो गए हैं. उनकी पत्नी वृंदा शुक्ला को डीसीपी (पुलिस उपायुक्त) के रूप में जिले में तैनाती दी गई है.

अंकुर अग्रवाल अंबाला शहर के मूल निवासी हैं, जबकि वृन्दा शुक्ला पंचकुला की रहने वाली हैं. अंकुर और वृंदा ने बचपन में एक साथ कई वर्षों तक अंबाला कान्वेंट जीसस एंड मैरी स्कूल में पढ़ाई की है.

हाईस्कूल तक एक साथ एक ही स्कूल में पढ़ाई की. फिर दोनों ने विदेश जाकर प्राइवेट नौकरी की. दोनों वतन लौटे और IPS अफसर बनने के बाद शादी कर ली थी.

वृंदा शुक्ला को 2014 में दूसरे प्रयास में आईपीएस का नगालैंड कैडर मिल गया, जबकि इसके दो साल बाद यानी 2016 में उनके पति अंकुर अग्रवाल को बिहार आईपीएस कैडर हासिल हो गया.

कमिश्नरेट सिस्टम शुरू होने के बाद फिलहाल एडिशनल डीसीपी के रूप में आधिकारिक तौर पर अधिकारियों की तैनाती नहीं की गई है. हालांकि माना जा रहा है कि वह जोन-1 में ही तैनात रहेंगे. इस नाते डीसीपी वृंदा उनकी डायरेक्ट बॉस तो नहीं होंगी, लेकिन सीनियर अधिकारी जरूर होंगी.

डीसीपी क्राइम के छुट्टी पर होने के दौरान वह इस कार्यभार को भी संभालेंगी. ऐसे में फील्ड में उन्हें वृंदा को सैल्यूट भी करना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें-

वित्त मंत्रालय की जांच में खुलासा, नोटबंदी में 94 हजार गुना बढ़ी गुजराती आभूषण कारोबारी की आय

नोएडा: दूध का पैकेट चुराते CCTV में कैद हुआ पुलिस वाला, देखें Video

Related Posts