तिरुमाला मंदिर के गैर-हिंदू कर्मचारी छोड़ें पद: आंध्र प्रदेश सरकार

मुख्य सचिव एल. वी. सुब्रमण्यम ने इस हफ्ते की शुरुआत में मंदिर के अपने दौरे के दौरान कहा था कि कर्मचारियों के घरों की भी एकाएक जांच की जाएगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे गैर-हिंदू धर्म का पालन तो नहीं कर रहे हैं.

आंध्र प्रदेश सरकार ने आदेश दिया है कि तिरुमाला मंदिर में काम करने वाले जिन कर्मचारियों ने हिंदू धर्म को छोड़कर अन्य धर्म अपनाया है, उन्हें अपने पद को छोड़ना होगा. अधिकारियों को तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) के सभी कर्मचारियों के बारे में जांच करने का आदेश दिया गया है. ये कर्मचारी दुनिया के सबसे अमीर हिंदू मंदिर तिरुमाला का प्रबंधन करते हैं.

मुख्य सचिव एल. वी. सुब्रमण्यम ने इस हफ्ते की शुरुआत में मंदिर के अपने दौरे के दौरान कहा था कि कर्मचारियों के घरों की भी एकाएक जांच की जाएगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे गैर-हिंदू धर्म का पालन तो नहीं कर रहे हैं. उन्होंने कहा, “कई कर्मचारी हैं, जिन्होंने अन्य धर्मो को अपनाया है. यह उनका चयन है. उन्हें ऐसा करने से कोई रोक नहीं सकता, लेकिन वे टीटीडी की नौकरी जारी नहीं रख सकते.”

उन्होंने आगे कहा, “किसी को भी दूसरों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का अधिकार नहीं है.” उन्होंने कहा, “ऐसे लोगों को खुद ही साहस दिखाते हुए सामने आना चाहिए और टीटीडी की नौकरी छोड़ देनी चाहिए.” अनुमान लगाया गया है कि टीटीडी में कुल 48 गैर-हिंदू अधिकारी और कर्मचारी हैं. कुछ तबकों की तरफ से तिरुमाला में बढ़ते धर्मान्तरण को लेकर चिन्ता व्यक्त की जा रही है.

ये भी पढ़ें- पिता के लिए भारत रत्न की भीख नहीं मांगूंगा: हॉकी के जादूगर ध्यानचंद के बेटे