राज्यसभा के सांसद मनोनीत, जानें- देश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के टॉप 5 फैसले

पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई के कुछ ऐतिहासिक फैसले की बात करें तो इसमें सबसे बड़ा मामला अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर था. गोगोई के करियर का सबसे बड़ा और ऐतिहासिक फैसला बताया जाता है.
know Top 5 decisions of former Chief Justice Ranjan Gogoi, राज्यसभा के सांसद मनोनीत, जानें- देश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के टॉप 5 फैसले

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई अब राज्यसभा सांसद कहलाएंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को उन्हें राज्यसभा के लिए नोमिनेट किया. आइए हम पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई और उनके कुछ चर्चित फैसलों के बारे में जानते हैं.

रंजन गोगोई का जन्म 18 नवंबर 1954 को असम के डिब्रूगढ़ में हुआ. वह असम के पूर्व मुख्यमंत्री केशब चंद्र गोगोई के पुत्र हैं. उन्होंने गुवाहाटी हाई कोर्ट से वकालत की शुरुआत की थी. 28 फरवरी 2001 को वह गुवाहाटी हाई कोर्ट में स्थायी जज नियुक्त हुए. 12 फरवरी 2011 तो वह पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बने. 23 अप्रैल 2012 को वह सुप्रीम कोर्ट के जज बने और 17 नवंबर 2019 को इस पद से रिटायर हो गए.

पूर्वोत्तर राज्यों और असम के वह पहले जस्टिस थे जो देश में ज्यूडिशरी के इस सबसे बड़े पद पर पहुंचे.

पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई के कुछ ऐतिहासिक फैसले की बात करें तो इसमें सबसे बड़ा मामला अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर था. गोगोई के करियर का सबसे बड़ा और ऐतिहासिक फैसला बताया जाता है. उनकी अध्यक्षता में सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने सैकड़ों सालों से जारी राम मंदिर और बाबरी ढांचे की विवादित जमीन के मामले पर 9 नवंबर 2019 को अंतिम फैसला सुनाया.

सीजेआई कार्यालय को आरटीआई के दायरे में लाना रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ का एक और माइल स्टोन फैसला था. सुप्रीम कोर्ट ने 13 नवंबर 2019 को ये फैसला सुनाया. कोर्ट ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश का दफ्तर सार्वजनिक कार्यालय है. यह मामला भी करीब नौ साल तक चला था.

know Top 5 decisions of former Chief Justice Ranjan Gogoi, राज्यसभा के सांसद मनोनीत, जानें- देश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के टॉप 5 फैसले
मंदिर के वेद पंडितों ने उनको आशीर्वाद दिया और उनको तीर्थम और प्रसाद दिया.

NRC लागू करने को लेकर दिया था चर्चित फैसला

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) लागू करने के मामले में भी पूरे देश में कई विवाद हुए. सीजेआई गोगोई अपने फैसले में कहा कि तय समयसीमा में एनआरसी को लागू किया जाए, ताकि गैरकानूनी तरीके से असम में रह रहे लोगों की पहचान की जा सके.

सुप्रीम कोर्ट के जज रहते हुए जस्टिस रंजन गोगोई ने साल 2016 में अमिताभ बच्चन की आय और टैक्स रिटर्न मामले में फैसला दिया था. जस्टिस गोगोई और जस्टिस पीसी पंत की पीठ ने बॉम्बे हाईकोर्ट के 2012 के फैसले को खारिज कर आयकर विभाग के पक्ष में फैसला सुनाते हुए बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन की आय और टैक्स रिटर्न की दोबारा जांच किए जाने का निर्देश दिया था.

राफेल सौदा केस में अलग से जांच की जरूरत नहीं

सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की पीठ ने 14 नवंबर 2019 को भारतीय वायुसेना के लिए भारत और फ्रांस के बीच हुए लड़ाकू विमान राफेल के सौदे पर फैसला सुनाया. कुछ मंत्रियों, सांसदों और वरिष्ठ वकीलों की ओर से इस सौदे को चुनौती देते हुए पुनर्विचार के लिए दाखिल याचिकाओं को खारिज करते हुए कहा कि इस मामले में अलग से जांच की कोई जरूरत नहीं.

know Top 5 decisions of former Chief Justice Ranjan Gogoi, राज्यसभा के सांसद मनोनीत, जानें- देश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के टॉप 5 फैसले
Cji ranjan gogoi

सुप्रीम कोर्ट की गरिमा बनाए रखने के लिए रंजन गोगोई ने जनवरी 2018 में तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के कार्य प्रणाली से नाराज होकर तीन अन्य जजों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था जब सुप्रीम कोर्ट के आंतरिक मामलों को मीडिया के सामने सार्वजनिक रूप से लाया गया था.

पहले ये दो जस्टिस गए थे राज्यसभा

रंजन गोगोई से पहले सुप्रीम कोर्ट के दो अन्य जज जस्टिस एम हिदायतुल्ला और जस्टिस रंगनाथा मिश्रा को भी राज्यसभा यानी संसद के ऊपरी सदन में भेजा गया था.

Related Posts