• Home  »  टॉपदेश   »   दिल्ली: हिंदू राव के बाद आज से कस्तूरबा अस्पताल के डॉक्टर्स की हड़ताल, जुलाई से नहीं मिला वेतन

दिल्ली: हिंदू राव के बाद आज से कस्तूरबा अस्पताल के डॉक्टर्स की हड़ताल, जुलाई से नहीं मिला वेतन

रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (RDA) ने कहा है कि उन्होंने प्रबंधन से इस बारे में बातचीत की. इस संकट के समय डॉक्टर्स पूरे समर्पण के साथ काम कर रहे हैं, लेकिन उन्हें जुलाई से वेतन नहीं मिला.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:28 am, Wed, 14 October 20

वेतन नहीं मिलने से नाराज़ उत्तरी नगर निगम के कस्तूरबा अस्पताल के डॉक्टर्स आज से हड़ताल पर चले गए हैं. डॉक्टर्स का कहना है कि उन्हें समय से वेतन नहीं मिल रहा है. कई बार अपील करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई, ऐसे में हड़ताल के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचा है. डॉक्टर ने ये भी कहा है कि जुलाई के बाद से उन्हें वेतन नहीं मिला है.

आज से अस्पताल में चिकिस्सकीय सुविधाएं प्रभावित होंगी. प्रबंधन को पत्र लिखकर डॉक्टर्स ने कहा कि 14 से 20 अक्टूबर तक हड़ताल होगी. अगर वेतन नहीं मिला तो ये आगे भी जारी रहेगी. डॉक्टर्स ने सैलरी नहीं मिलने की स्थिति में बड़ी संख्या में इस्तीफा देने की भी पेशकश की है.

ये भी पढ़ें-दिल्ली: शिफ्ट किए जाएंगे हिंदू राव अस्पताल के कोरोना मरीज, सैलरी न मिलने से स्टाफ की हड़ताल जारी

इमरजेंसी सुविधाओं पर भी पड़ेगा असर

रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (RDA) ने कहा है कि उन्होंने प्रबंधन से इस बारे में बातचीत की. इस संकट के समय डॉक्टर्स पूरे समर्पण के साथ काम कर रहे हैं, लेकिन उन्हें जुलाई से वेतन नहीं मिला. अस्पताल के प्रबंधन को इस बारे में जानकारी दे दी गई है कि इसरजेंसी सुविधाओं में लगे डॉक्टर्स समेत सभी आज से हड़ताल पर हैं.

हमें ये कदम उठाने पर किया गया मजबूर

आरडीए के अध्यक्ष सुनील कुमार ने कहा कि हमें ये कदम उठाने पर मजबूर किया गया है. सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों के बावजूद स्वास्थ्य कर्मियों के वेतन के मामले को कोई गंभीरता से नहीं ले रहा है. डॉक्टर्स की इस हड़ताल से सैकड़ों मरीज़ों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. कुछ मरीज़ों को हिंदुराव से कस्तूरबा अस्पताल में शिफ्ट किया गया था. हमसे प्रबंधन ने एक महीने की सैलरी देने के लिए कहा था, लेकिन हमने मना कर दिया क्योंकि तीन महीने की सैलरी नहीं मिली है. हम तब तक हड़ताल वापस नहीं लेगें जब तक पूरा वेतन हमें नहीं दिया जाता.

जल्द सुलझा लिया जाएगा मामला

नॉर्थ कॉर्पोरेशन के मेयर जय प्रकाश ने कहा है कि मामले को जल्द सुलझा लिया जाएगा. हम उनसे फैसले को वापस लेने की अपील कर रहे है. आरडीए के एक सदस्य ने कहा कि अगर सिविक एजेंसी अस्पताल नहीं चला पा रही है तो उसे ये अस्पताल केंद्र या राज्य सरकार को स्थानांतरित कर देना चाहिए.

ये भी पढ़ें- भुट्टे का रियलिटी टेस्ट… जानिए क्या है APMC मंडियों और MSP का गणित