शोपियां के बाद अनंतनाग में कश्मीरियों से मिले NSA अजीत डोभाल, बच्चों से भी की मुलाकात, VIDEO

धारा 370 खत्म करने के बाद घाटी में शांति कायम रखने के लिए केंद्र सरकार के सारे तंत्र सुपर ऐक्टिव हैं.

नई दिल्ली: आर्टिकल 370 (Article 370) को घाटी से हटाने के बाद केंद्र सरकार किसी भी तरह वहां के हालात सामान्य करने की कोशिश कर रही है. NSA अजीत डोभाल ने आज अनंतनाग के कई इलाकों का दौरा किया. इस दौरान डोभाल ने लोगों से मुलाकात की और उनको भरोसा दिलाया कि सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने के लिए तत्पर है. डोभाल कश्मीरी बच्चों को भी दुलराते हुए दिखे.

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल लगातार जम्मू-कश्मीर में कैंप किए हुए हैं. उन्होंने शोपियां के बाद आज अनंतनाग का दौरा किया. वह इलाके का माहौल भांपने के लिए सड़क पर उतरे. उनकी मुलाकात बकरीद के लिए भेंड़ें बेचने आए चरवाहों से हो गई. डोभाल ने चरवाहे से कुछ देर तक बात की. इससे दो दिन पहले डोभाल को शोपियां की सड़कों पर आम लोगों से बातचीत की और उनके साथ खाना भी खाया.

सुपर तंत्र एक्टिव
जम्मू-कश्मीर में शांति कायम रखने के लिए केंद्र सरकार के सारे तंत्र सुपर ऐक्टिव हैं. शांति सुनिश्चित रखने की दिशा में केंद्र की सक्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एनएसए अजीत डोभाल वह लगातार आतंकवाद प्रभावित इलाकों में जाकर आम लोगों से मिल रहे हैं और उन्हें बेहतर भविष्य का आश्वासन दे रहे हैं. इसी क्रम में उन्होंने आज अनंतनाग का दौरा किया. अनंतनाग, जम्मू और कश्मीर के बाद जम्मू-कश्मीर का तीसरा सबसे बड़ा शहर है.

कोर्ट की शरण में एनसी
नेशनल कॉन्‍फ्रेंस ने जम्‍मू-कश्‍मीर से विशिष्‍ट दर्जा छीने जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है. NC नेताओं मोहम्‍मद अकबर लोन और हसनैन मसूदी ने सुप्रीम कोर्ट से अनुच्‍छेद 370 पर राष्‍ट्रपति के आदेश को ‘असंवैधानिक’ करार देने का निर्देश मांगा है. पार्टी ने जम्‍मू-कश्‍मीर पुनर्गठन एक्‍ट, 2019 को भी ‘असंवैधानिक’ करार दिए जाने की मांग याचिका में की है.

मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन
गृह मंत्रालय ने जम्‍मू-कश्‍मीर में विरोध-प्रदर्शनों पर कुछ मीडिया हाउसेज की ओर से आईं रिपोर्ट्स का खंडन किया है. मंत्रालय ने साफ किया है कि ‘श्रीनगर में 10,000 लोगों के प्रदर्शन की मीडिया रिपोर्ट्स हैं. यह पूरी तरह से मनगढ़ंत और झूठी बात है. श्रीनगर/बारामूला में कुछ छिटपुट प्रदर्शन हुए हैं और एक भी में 20 से ज्‍यादा लोग नहीं थे.’

ईद के कारण कर्फ्यू में ढील
जम्‍मू-कश्‍मीर में ईद को देखते हुए प्रतिबंधों में थोड़ी ढील दी जा सकती है. जम्‍मू से पहले ही धारा 144 हटा ली गई है. वहां के स्‍कूल-कॉलेज आज खुल जाएंगे. ईद के मद्देनजर हल्‍की-फुल्‍की खरीदारी भी शुरू हो गई है. खुले मैदान में हजारों की संख्या में नमाज अदा करने की अनुमति देने के संबंध में अभी तक कोई घोषणा नहीं की गई है.

सरकार सख्त
जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में उग्र प्रदर्शन की आशंका के मद्देनजर केंद्र सरकार बिल्कुल सधे कदम से आगे बढ़ रही है. 4 अगस्त की रात घोषित निषेधाज्ञा में थोड़ी-थोड़ी ढील दी जा रही है। हालांकि, आतंकवाद प्रभावित जिलों में अब भी फूंक-फूंक कर कदम उठाए जा रहे हैं.

सरकार कर्फ्यू पूरी तरह हटाने और नेताओं नजरबंदी खत्म करने से पहले घाटी में सामान्य हालात की गारंटी कर लेना चाहती है। इसी क्रम में जम्मू-कश्मीर की जेलों में बंद 70 आतंकवादियों को आगरा जेल शिफ्ट किया जा चुका है और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नए-नए इलाकों का दौरा कर जनता का मूड भांप रहे हैं और केंद्र सरकार में उनका भरोसा बढ़ाने की जीत-तोड़ कोशिश कर रहे हैं।