NSA अजीत डोभाल के बेटे को दी गई ‘Z’ श्रेणी की सुरक्षा, बताया था पिता के विरोधियों से खतरा

शौर्य डोभाल को जेड श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद हर वक्त 15-16 हथियारों से लैस कमांडों के साए में रहना पड़ेगा. ये फैसला उनके लिए संभावित खतरों को भांपते हुए लिया गया.

नई दिल्ली: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के बेटे शौर्य डोभाल को जेट श्रेणी की सुरक्षा दी गई है. डोभाल के अलावा पश्चिम बंगाल से भाजपा के 10 उम्मीदवारों को भी अस्थायी तौर पर सुरक्षा दी गई है.

शौर्य डोभाल को जेड श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद हर वक्त 15-16 हथियारों से लैस कमांडों के साए में रहना पड़ेगा. ये फैसला उनके लिए संभावित खतरों को भांपते हुए लिया गया. डोभाल के अलावा पं बंगाल के दस भाजपा नेताओं को भी सुरक्षा मुहैया कराई गई है.

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, शौर्य डोभाल को एक रिपोर्ट के बाद के मोबाइल सिक्यॉरिटी घेरे में लाया गया था. रिपोर्ट में कहा गया था कि जिसमें उन्होंने (शौर्य डोभाल) कहा था कि उन्हें “अपने पिता के विरोधियों से खतरा है”. इस रिपोर्ट के बाद गृह मंत्रालय ने डोभाल की सुरक्षा में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) कमांडो की तैनाती का आदेश दिया.
शौर्य डोभाल इंडियन फाउंडेशन के प्रमुख हैं. संगठन की वेबसाइट के अनुसार, यह ‘भारतीय राजनीति के मुद्दों, चुनौतियों और संभावनाओं पर केंद्रित’ थिंक टैंक है.

ये भी पढ़ें- ‘फैनी’ तूफान की देश में दस्तक, मौसम विभाग ने जारी किया 24 घंटे का रेड अलर्ट

इसके अलावा पं बंगाल की जाधवपुर संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी अनुपम हजारा और बैरकपुर से भाजपा प्रत्याशी अर्जुन सिंह को ‘Y+’ सुरक्षा प्रदान की गई है. केंद्रीय राज्यमंत्री और दुर्गापुर से भाजपा प्रत्याशी एस एस अहलूवालिया को भी सुरक्षा प्रदान की गई है.

कूच बिहार के उम्मीदवार निशित प्रमाणिक, पूर्व आईपीएस अधिकारी और घटल सीट की उम्मीदवार भारती घोष को ‘Y+’ सुरक्षा दी गई है. इन लोगों के साथ लगभग 5-6 सशस्त्र कमांडो तैनात रहेंगे. भाजपा नेता सिद्धार्थ शेखर दास को भी सुरक्षा दी गई है.

उत्तर 24 परगना संसदीय क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार शांतनु ठाकुर को ‘वाई’ श्रेणी का सुरक्षा कवर दिया गया है, जबकि सबसे कम ‘एक्स’ श्रेणी का कवर दुलाल चंद्र बार और खगेन मुर्मू को दिया गया है. एक ऐसा ही ‘एक्स’ श्रेणी का सुरक्षा कवच, जिसमें एस्कॉर्ट वाहन के साथ लगभग 2-3 कमांडो होते हैं कबीर शंकर बोस को सौंप दिया गया है.