लोकसभा स्‍पीकर बने ओम बिरला को PM मोदी ने सराहा, फिर मंत्रियों से कराया परिचय

ओम बिरला, सुमित्रा महाजन का स्थान लेंगे जो पिछली लोकसभा की अध्यक्ष थीं.

नई दिल्‍ली: राजस्थान की कोटा-बूंदी लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सांसद ओम बिरला 17वीं लोकसभा के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए. उन्हें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने अपना उम्मीदवार बनाया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन में बजट सत्र के तीसरे दिन बिड़ला (56) के समर्थन में प्रस्ताव पेश किया, जिसे ध्वनिमत से पारित कर दिया गया.

बिरला को अध्यक्ष बनाने के राजग के प्रस्ताव को राजग के सभी दलों के साथ-साथ कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस ने भी समर्थन दिया. प्रधानमंत्री खुद बिरला को लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी तक ले गए. तीन बार विधायक भी रह चुके बिरला मध्य प्रदेश के कोटा से दूसरी बार सांसद निर्वाचित हुए हैं. इस प्रतिष्ठित पद के लिए भाजपा ने सबको चौंकाते हुए बिरला को नामित किया था.

बिरला ने बिना रुके पार किया हर पड़ाव : मोदी

संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिरला के निर्विरोध निर्वाचन को महान गर्व का विषय बताया. मोदी ने कहा, “सदन के लिए यह महान गर्व की बात है. सर्वसम्मति से लोकसभा अध्यक्ष चुने जाने पर हम बिरला जी को बधाई देते हैं. कई सांसद बिरला जी को अच्छी तरह जानते हैं. सार्वजनिक सेवा उनकी राजनीति का केंद्र बिंदु रही है.”

उन्होंने कहा, “मुझे व्यक्तिगत रूप से बिरला जी के साथ लंबे समय तक काम करने का अनुभव याद है. वे कोटा के प्रतिनिधि हैं. शिक्षा और अध्ययन की भूमि कोटा मिनी इंडिया है. वे कई सालों से सार्वजनिक जीवन में हैं. उन्होंने छात्र नेता के रूप में शुरूआत की. तब से निर्बाध रूप से समाजसेवा कर रहे हैं.” बिरला के समर्थन में कुल 13 प्रस्ताव पेश किए गए.

मंगलवार को लोकसभा में कांग्रेस के नेता नियुक्त किए गए अधीर रंजन चौधरी ने बिड़ला से आग्रह किया कि सदन को लोकतांत्रिक परंपराओं का पालन करना चाहिए. चौधरी ने कहा, “हम चर्चा, असहमति और निर्णय में विश्वास करते हैं. हमें अपने अधिकारों के सम्मान की अपेक्षा है. संसदीय चर्चाओं में, हमें अध्यादेश लागू करने वाले मार्ग को नजरंदाज करना होगा क्योंकि यह लोकतांत्रिक नियमों के खिलाफ है.”

पीएम ने मंत्रिमंडल से कराया परिचय

इसके बाद, PM मोदी ने मंत्रिमंडल के सदस्यों का लोकसभा में परिचय करवाया, जिसकी शुरुआत उन्होंने रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से की. नवनियुक्त अध्यक्ष ओम बिरला के संक्षिप्त भाषण के बाद, मोदी ने एक-एक करके सत्ता पक्ष के सदस्यों के मेज थपथपाने के बीच मंत्रियों का परिचय करवाया.

हर बार जब प्रधानमंत्री किसी मंत्री का नाम पढ़ते थे, तो उक्त मंत्री हाथ जोड़कर खड़ा हो जाता. राजनाथ सिह के बाद गृहमंत्री अमित शाह का सदन से परिचय करवाया गया. उसके बाद सदन को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया गया.

बिरला सांसद के रूप में अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान लोकसभा अध्यक्ष का पद संभालने वाले पांचवें नेता हैं. बिड़ला ने 12वीं, 13वीं और 14वीं राजस्थान विधानसभाओं के लिए 2003, 2008, 2013 में विधायक के रूप में कार्य किया और उसके बाद 2014 में संसदीय चुनाव जीता और सांसद बने.

उन्होंने हाल ही में संसदीय चुनाव में कांग्रेस के रामनारायण मीणा को 2.79 लाख से अधिक मतों से हराया. चुनाव में बिड़ला को आठ लाख से अधिक वोट मिले. कुल मिलाकर उन्होंने लगातार पांच बार चुनाव लड़ा और जीता.

ये भी पढ़ें

ओम बिड़ला होंगे लोकसभा के अगले स्‍पीकर, जानिए कौन हैं जिन्‍हें PM मोदी ने चुना

यूपी की निजी यूनिवर्सिटीज़ को देना होगा सरकार को भरोसा, कैंपस में नहीं होने देंगे राष्ट्रविरोधी काम