वन नेशन वन कार्ड: मेट्रो हो या टोल, हर जगह एक कार्ड से होगा डिजिटल पेमेंट

वित्‍तमंत्री ने कहा, "मेट्रो, टोल हर जगह एक ही कार्ड से पेमेंट के लिए डिजिटल व्यवस्था की जा रही है."

नई दिल्‍ली: आम बजट पेश करते हुए वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण ने ‘वन नेशन, वन कार्ड’ की बेहद अ‍हम घोषणा की है. उन्‍होंने कहा कि मेट्रो, टोल हर जगह एक ही कार्ड से पेमेंट के लिए डिजिटल व्यवस्था की जा रही है. Rupay कार्ड से इसे लिंक किया जाएगा. सीतारमण ने राज्‍यों को किफायती दर पर बिजली मुहैया कराने के लिए ‘वन नेशन वन ग्रिड’ की घोषणा की.

वित्‍तमंत्री ने राष्‍ट्रीय स्‍तर पर एक कार्ड लॉन्‍च करने की भी घोषणा की. यह कार्ड रोड, रेलवे, एयर माध्‍यमों से यातायात पर इस्‍तेमाल किया जा सकेगा. इसके जरिए ATM से पैसे भी निकाले जा सकेंगे. ‘वन नेशन, वन कार्ड’ को अन्‍य क्षेत्रों में लागू करने की संभावनाएं तलाशी जाएंगी.

सीतारमण ने कहा, “पीएम ग्रामीण सड़क योजना, भारतमाला, उड़ान स्कीम, डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर. भारतमाला से हाईवे नेटवर्क मजबूत होंगे. सागरमाला से पोर्ट लिंक बढ़ेगा. इससे बाहरी व्यापार बढ़ेगा. जलमार्ग विकास से नेशनल वाटरवे बढ़ेगा. इनलैंड वाटर-वे से बाकी माध्यमों पर भार घटेगा. कीमत भी कम होगी. उड़ान स्कीम से हर कोई हवाई यात्रा कर सकेगा.”

उन्‍होंने आगे कहा, “एविएशन इंडस्ट्री का हब बनने के लिए सरकार हर संभव मदद करने जा रही है. मेनटेनेंस, ओवरहॉल और ऑपरेशन के क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाएंगे. 300 किलोमीटर लंबा मेट्रो रेल नेटवर्क 2019 में बनेगा. 210 किलोमीटर लंबा नेटवर्क चालू हो गया है. 650 किलोमीटर मेट्रो रेल नेटवर्क शुरू हो चुका है.”

वित्‍तमंत्री ने कहा, “जब हम अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने की बात करते हैं, तो कई लोग आश्चर्य करते हैं कि क्या यह संभव है. देश के नागरिकों की इच्छा और सरकार के नेतृत्व को देखते हुए, यह लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है. भारत को एक खरब की अर्थव्यवस्था बनने में 45 साल लग गए लेकिन सिर्फ पांच साल में हमारी अर्थव्यवस्था एक खरब बढ़ कर तीन खरब की हो गई है. हम अगले पांच साल में इसे पांच खरब तक बढ़ाएंगे.”

ये भी पढ़ें

‘यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है’, निर्मला सीतारमण ने जो शेर कहा, पढ़ें वो पूरी ग़ज़ल

वन नेशन वन कार्ड: मेट्रो हो या टोल, हर जगह एक कार्ड से होगा डिजिटल पेमेंट

पिछले सारे वित्‍तमंत्रियों से अलग हैं निर्मला सीतारमण, तोड़ी ब्रीफकेस में बजट लाने की परंपरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *