गैस पाइपलाइन का वॉल्‍व बंद कर तबाही रोकी, खुद कुर्बान हो गए ONGC प्‍लांट के GM

बदबू आने पर जनरल मैनेजर सीएन राव भीतर गए और मेन गैस पाइपलाइन का वॉल्‍व बंद किया. इसी दौरान धमाका हो गया.

ONGC के उरण वाले ऑयल एंड गैस प्‍लांट में मंगलवार को आग लगने से चार लोगों की मौत हो गई. हादसे में जान गंवाने वाले प्‍लांट के जनरल मैनेजर सीएन राव ने एक बड़ी दुर्घटना होने से रोक ली.

हादसे के समय प्‍लांट में रहे ONGC के एक अधिकारी ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, “गैस की बदबू आने पर राव भीतर गए और मेन गैस पाइपलाइन का वॉल्‍व बंद करने में सफल रहे. हालांकि और किसी लीकेज की तलाश के दौरान ही धमाका हुआ और राव समेत बाकी लोग उसकी चपेट में आ गए.”

मेकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले सीएन राव ने 1990 से ONGC में काम करना शुरू किया. दो साल पहले ही उनका ट्रांसफर उरण वाले प्‍लांट पर किया गया था. ONGC के ही एक और कर्मचारी ने राव के बारे में कहा, “वह बेहद स‍मर्पित और धीर-गंभीर इंसान थे. उन्‍होंने अपनी जान पर खेलकर दूसरों की जान बचाई. ये अपने प्रोफेशन के प्रति उनकी प्रतिबद्धता दर्शाता है.”

हादसे में CISF के तीन फायरफाइटर्स- हेड कांस्‍टेबल एनए नायक और कांस्‍टेबल एमके पासवान और एसपी कुशवाहा की भी मौत हो गई. उनके साथी- कांस्‍टेबल महेश केआर और राज शिंदे झुलस गए जिन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है.

पुलिस के मुताबिक, राव का शव बुरी तरह जल गया है, पहचान के लिए डीएनए सैंपल लिया गया है. राव की मौत का पता चलने के बाद उनका परिवार सदमे में है.

ये भी पढ़ें

हैरी पॉटर पढ़ कहीं आत्‍माएं ना बुला लें बच्‍चे, स्‍कूल ने बैन कर दी पूरी सीरीज

रिक्शेवाले ने 3000 लड़कियों को प्यार के चंगुल में फंसाया, थाने में हुई पूछताछ