“अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण में सिर्फ दिल्‍ली वालों को न्‍यौता, कोई बाहरी नहीं होगा शामिल”

16 फरवरी को अरविंद केजरीवाल एक बार फिर से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. उनके साथ जो पिछली सरकार में कैबिनेट मंत्री थे वही इस सरकार में भी मंत्री पद पर रहेंगे.
Arvind Kejriwal Oath Ceremony, “अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण में सिर्फ दिल्‍ली वालों को न्‍यौता, कोई बाहरी नहीं होगा शामिल”

दिल्ली चुनाव में भारी बहुमत से जीतने के बाद एक बार फिर से आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार बनने जा रही है. 16 फरवरी को अरविंद केजरीवाल एक बार फिर से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. उनके साथ जो पिछली सरकार में कैबिनेट मंत्री थे वही इस सरकार में भी मंत्री पद पर रहेंगे.

वहीं इस बीच अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है. आप नेता गोपाल राय ने कहा है कि इस समारोह में केवल दिल्ली वालों को ही न्यौता दिया जाएगा और बाहरी कोई भी इसमें शामिल नहीं होगा.

गोपाल राय ने कहा, “हमने फैसला किया है कि दिल्ली की जनता और सभी नवनिर्वाचित विधायक, इसके अलावा अलग-अलग क्षेत्रों में अच्छा काम करने वाले लोगों को बुलाया जाएगा.”

लड़ाई में दिल्ली वालों ने दिया सबसे बड़ा योगदान

उन्होंने कहा, “मंच पर बस एलजी साहब होंगे और पूरी कैबिनेट के साथ मुख्यमंत्री होंगे. अभी हमने यही फैसला किया है कि इस लड़ाई में सबसे बड़ा योगदान दिल्ली के लोगों का है तो दिल्ली की जनता को बुलाया जाएगा. हमने पहले भी शपथ ग्रहण समारोह किया था तो दिल्ली की जनता के साथ ही किया, तो हम चाहते हैं कि जनता को प्राथमिकता दें. लोगों के साथ हम काम कर चुके हैं, जहां देश की बात आएगी वहां काम करेंगे, लेकिन दिल्ली के साथ दिल्ली की जनता को प्राथमिकता देना चाहते हैं.”

मंत्रीमंडल में कौन होगा, कौन नहीं इस पर बात करते हुए गोपाल राय ने कहा, “मंत्रिमंडल में कौन होगा यह 16 तारीख को तय होगा.”

इसके आगे गोपाल राय ने कहा, “दिल्ली के अंदर सरकार अपने वादों पर फोकस करेगी. साथ ही एक टीम बनाएंगे, जो कि देशभर में संगठन का काम करेगी. अभी हाल ही में हमने एक नंबर जारी किया था, जिस पर 10 लाख लोग जुड़ चुके हैं.”

आस्था का दुरुपयोग करती है बीजेपी

साथ ही बीजेपी पर निशाना साधते हुए गोपाल राय ने कहा, “भारत के अंदर जब बीजेपी पैदा नहीं हुई थी तब भी लोग धार्मिक आस्था रखते थे. बीजेपी से देवी-देवता पैदा नहीं हुए. आस्था का दुरुपयोग बीजेपी करती है. काम के आधार पर हम चुनाव लड़े हैं और जीते हैं.”

इसके आगे आप नेता ने कहा, “दिल्ली देश की राजधानी है. चुनाव दिल्ली का था, लेकिन जिस तरीके से प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, रक्षा मंत्री और राज्यों के मुख्यमंत्री यहां पर आए थे इसलिए पूरा देश इंतजार कर रहा है कि दिल्ली में मोहब्बत की राजनीति हो सकती है तो पूरे देश में भी हो सकती है. नई तरह की राजनीति की शुरुआत हुई है. 5 साल में लोगों को कुछ नहीं मिलता था.”

वहीं आगामी बंगाल और बिहार चुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि बंगाल और बिहार के चुनाव को लेकर हम संगठन के साथ बैठकर रणनीति बनाएंगे.

 

ये भी पढ़ें-   AAP विधायक अमानतुल्‍लाह खान की जीत का जश्‍न मना रहे थे घरवाले, मेरठ पुलिस पर पिटाई का आरोप

कैंडिडेट का पूरा क्रिमिनल रिकॉर्ड करें पेश, क्‍यों टिकट दिया ये भी बताएं, सुप्रीम कोर्ट का सभी पार्टियों को आदेश

Related Posts