‘राजधानी के सरकारी-प्राइवेट अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज, कल से खुलेगा बॉर्डर’

दिल्ली सरकार (Delhi Government) के अस्पताल और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का ही इलाज होगा. जबकि राजधानी में स्थित केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी लोगों का इलाज होगा.
Only Delhi's people are treated in government-private hospitals, ‘राजधानी के सरकारी-प्राइवेट अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज, कल से खुलेगा बॉर्डर’

कोरोनवायरस (Coronavirus) के चलते दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने एक बड़ा फैसला लिया है, जिसके तहत अब दिल्ली में दिल्ली सरकार के अस्पताल और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का ही इलाज होगा. जबकि राजधानी में स्थित केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी लोगों का इलाज होगा.

Covid-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिल्ली कैबिनेट ने यह अहल फैसला लिया है. इसी के साथ दिल्ली (Delhi) से बाहर के सभी लोगों के लिए सोमवार से सभी बॉर्डर भी खोल दिए जाएंगे. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसकी आधिकारिक घोषणा भी कर दी है.

सरकार ने शराब से स्पेशल कोरोना फीस हटाई

इसके साथ ही दिल्ली सरकार ने 10 जून 2020 से सभी श्रेणियों की शराब के अधिकतम खुदरा मूल्य (MRP) पर लगाई गई 70% ‘विशेष कोरोना फीस’ को वापस लेने का फैसला किया है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

दिल्ली में होटल, बैंक्वेट हॉल रहेंगे बंद

अपनी डिजीटल प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान CM अरविंद केजीवाल ने कहा, “दिल्ली सरकार केंद्र के आदेश के मुताबिक कल से दिल्ली में मॉल्स, रेस्टोरेंट,धार्मिक स्थल खोलने जा रही है. दिल्ली में होटल, बैंक्वेट हॉल को अभी नहीं खोला जा रहा है क्योंकि हो सकता है कि आने वाले वक्त में हमें इन्हें अस्पताल में बदलना पड़े.”

दिल्ली के अस्पताल सिर्फ दिल्ली के लोगों के लिए रिजर्व

केजरीवाल ने कहा, “दिल्ली सरकार के 10,000 बेड हैं, केंद्र सरकार के भी 10,000 बेड हैं. कैबिनेट ने ये फैसला लिया है कि दिल्ली के अस्पताल केवल दिल्ली के लोगों के लिए रिज़र्व होने चााहिए, जबकि केंद्र सरकार के अस्पताल सबके लिए खुले रहेंगे.”

सीएम ने आगे कहा कि कुछ निजी अस्पताल ऐसे हैं जो खास किस्म की सर्जरी करते हैं जो सर्जरी बाकी देशभर में उपलब्ध नहीं है. ऐसे अस्पताल पूरे देश के लोगों के लिए खुले रहेंगे.

‘दिल्ली के लोगों और कमेटी के सुझाव पर लिया फैसला’

सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोगों से सुझाव मांगे थे, जिसमें 90 फ़ीसदी लोगों ने कहा कि जब तक कोरोना है, तब तक दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवासियों का इलाज हो. सीएम ने आगे कहा कि हमने पांच डॉक्टरों की एक कमेटी बनाई थी. कमेटी अपनी रिपोर्ट दी है. उनका यह कहना है कि फिलहाल दिल्ली के अस्पताल दिल्ली के लोगों के लिए होने चाहिए, बाहर वालों के लिए नहीं. अगर बाहर वालों के लिए खोल दिया तो 3 दिन में सब बेड भर जाएंगे.

अरविंद केजरीवाल ने बताया कि डॉ. महेश वर्मा इस कमेटी के अध्यक्ष थे, कमेटी ने यह भी कहा कि जून के अंत तक दिल्ली को 15,000 बेड की जरूरत होगी.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts