पासपोर्ट पर कमल देख विपक्ष ने सरकार पर लगाए भगवाकरण के आरोप, विदेश मंत्रालय ने दी सफाई

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, "कमल के अलावा, अन्य राष्ट्रीय प्रतीकों को बारी-बारी से इस्तेमाल किया जाएगा. अभी पासपोर्ट पर कमल का निशान है और फिर अगले महीने कुछ और होगा."

लोकसभा में विपक्षी सदस्यों द्वारा नए पासपोर्ट पर कमल का निशान छापे जाने का मुद्दा उठाए जाने के एक दिन बाद, विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को साफ किया कि यह नकली पासपोर्ट की पहचान करने के लिए बढ़ी हुई सुरक्षा सुविधाओं का हिस्सा है और इन चिन्हों को अन्य राष्ट्रीय प्रतीकों के साथ-साथ रोटेशनली उपयोग किया जाएगा.

शून्यकाल के दौरान केरल के कोझीकोड में वितरण के लिए लाए गए नए पासपोर्ट पर कमल के इस चिन्ह के मुद्दे को उठाते हुए, कांग्रेस के एमके राघवन ने कहा कि इस मामले को एक न्यूज पेपर ने उजागर किया है और आरोप लगाया है कि यह सरकार की “भगवाकरण” की नीति का हिस्सा है. मालूम हो कि कमल बीजेपी का चुनाव चिन्ह है.

lotus on passport, पासपोर्ट पर कमल देख विपक्ष ने सरकार पर लगाए भगवाकरण के आरोप, विदेश मंत्रालय ने दी सफाई

इस मुद्दे के बारे में पूछे जाने पर, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, “यह प्रतीक हमारा राष्ट्रीय फूल है और नकली पासपोर्ट की पहचान करने के लिए बढ़ी सुरक्षा सुविधाओं का हिस्सा है.” उन्होंने कहा कि इन सुरक्षा सुविधाओं को अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (ICAO) के दिशानिर्देशों के तहत पेश किया गया है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, “कमल के अलावा, अन्य राष्ट्रीय प्रतीकों को बारी-बारी से इस्तेमाल किया जाएगा. अभी पासपोर्ट पर कमल का निशान है और फिर अगले महीने कुछ और होगा. ये भारत से जुड़े कुछ प्रतीक हैं जैसे कि राष्ट्रीय फूल या राष्ट्रीय पशु.”

ये भी पढ़ें: अयोध्या में बना पहला टूरिस्ट पुलिस बूथ, श्रद्धालुओं को मिलेगी और अधिक सुरक्षा