केरल राज्‍यपाल के खिलाफ विपक्ष ने खोला मोर्चा, नागरिकता कानून का किया था समर्थन

विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला ने कहा कि वह लोकतांत्रिक सिद्धांतों का ''उल्लंघन करने और विधानसभा के गौरव पर '' सार्वजनिक रूप से सवाल उठाने के लिए राज्यपाल को वापस बुलाए जाने का प्रस्ताव पेश करेंगे.

केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष ने विधानसभा अध्‍यक्ष से राष्‍ट्रपति द्वारा राज्‍यपाल आरिफ मोहम्‍मद खान को वापस बुलाने के लिए प्रस्ताव पारित करने के लिए सहमति मांगी है.

विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला ने कहा कि वह लोकतांत्रिक सिद्धांतों का ”उल्लंघन करने और विधानसभा के गौरव पर ” सार्वजनिक रूप से सवाल उठाने के लिए राज्यपाल को वापस बुलाए जाने का प्रस्ताव पेश करेंगे. इसका स्वागत करते हुए राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि वह संविधान के अनुसार काम कर रहे हैं.

इस बारे में चेन्निथला ने कहा कि राज्यपाल ने विधानसभा का अपमान किया है. उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन से मिलकर, सीएए के खिलाफ प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित किया है. यह बहुत गंभीर स्थिति है. उनकी कार्रवाई ने विधानसभा की गरिमा को नुकसान पहुंचाया.

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि हर किसी को अपनी राय रखने का हक है. मैं राज्य का संवैधानिक प्रमुख हूं. सरकार को सलाह देना, परामर्श देना, प्रेरित करना और आगाह करना मेरा कर्तव्य है. उन्होंने कहा कि संविधान और उच्चतम न्यायालय द्वारा की गई व्याख्या के अनुसार यह मेरी जिम्मेदारी का हिस्सा है.

खान ने कहा कि सरकार के साथ कोई टकराव नहीं है, लेकिन उन्हें सूचित किए बगैर सीएए के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख करने का राज्य का कदम सही नहीं है.

ये भी पढ़ें –

चिदंबरम को अरेस्ट करने वाले अफसर सहित 28 सीबीआई अधिकारियों को मिला प्रेजिडेंट मेडल

Related Posts