अगले हफ्ते से सीरम इंस्टीट्यूट पुणे में शुरू करेगा ऑक्सफोर्ड कोरोना वैक्सीन का फाइनल ट्रायल

11 सितंबर को कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के परीक्षण पर रोक लगाई गई थी क्योंकि दिग्गज दवा कंपनी एस्ट्राजेनिका ने अध्ययन में शामिल हुए एक व्यक्ति की तबीयत खराब होने के बाद अन्य देशों में परीक्षण रोक दिया था.

AstraZeneca Oxford Covid-19 vaccine

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (University of Oxford) द्वारा विकसित और भारतीय सीरम संस्थान द्वारा तैयार किए जा रहे कोविड-19 (Covi-19) टीके का मानव शरीर पर तीसरे चरण का परीक्षण अगले हफ्ते सप्ताह पुणे के ससून अस्पताल में परीक्षण शुरू हो जाएगा. सरकार संचालित ससून अस्पताल के डीन डॉक्टर मुरलीधर तांबे ने इस बात की जानकारी दी.

उन्होंने कहा कि ”ससून अस्पताल में अगले सप्ताह कोविडशील्ड टीके के तीसरे चरण का परीक्षण शुरू हो जाएगा. सोमवार से इसके शुरू होने की संभावना है. परीक्षण के लिए कुछ स्वयंसेवक पहले ही आगे आ चुके हैं. तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल में कोविडशील्ड 150-200 स्वयंसेवकों को दिया जाएगा”. शनिवार से ससून अस्पताल में स्वयंसेवकों का रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ.

ऑक्सफोर्ड के कोविड टीके का परीक्षण दोबार शुरू

भता दें कि 15 सितंबर को भारतीय औषधि महानियंत्रक (DCGI) डॉ. वीजी सोमानी ने सीरन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके का इंसानों पर क्लीनिकल ट्रायल फिर से शुरू करने की अनुमति दे दी थी. DCGI ने दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण के लिए किसी भी उम्मीदवारों को चुनने को रोकने वाले अपने पहले आदेश को रद्द कर दिया था.

हालांकि डीसीजीआई ने इसके लिए जांच के दौरान अतिरिक्त ध्यान देने समेत कई अन्य शर्तें रखी हैं. SII से DCGI ने विपरीत परिस्थितियों से निपटने में नियम के अनुसार तय इलाज की भी जानकारी जमा करने को कहा है.

इससे पहले 11 सितंबर को DGCI ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को निर्देश दिया था कि कोविड-19 के संभावित टीके के चिकित्सकीय परीक्षण पर रोक लगाई जाए क्योंकि दिग्गज दवा कंपनी एस्ट्राजेनिका ने अध्ययन में शामिल हुए एक व्यक्ति की तबीयत खराब होने के बाद अन्य देशों में परीक्षण रोक दिया था.

Related Posts