14 दिन के लिए बढ़ाई गई चिदंबरम की न्यायिक हिरासत, 3 अक्टूबर तक के लिए भेजे गए तिहाड़

पी चिदंबरम की तरफ से कहा गया है कि उनकी एम्स या राम मनोहर लोहिया अस्पताल में जांच करवाई जाए.

INX मीडिया मामले में पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 14 दिन के लिए बढ़ा दी गई है. दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट ने सुनवाई के दौरान आज ये फैसला सुनाया. पढ़िए लाइव अपडेट्स…

Updates:

  • राउज एवेन्यू कोर्ट ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 14 दिन के लिए बढ़ा दी है. चिदंबरम को 3 अक्टूबर तक के लिए तिहाड़ जेल भेज दिया गया है.
  • कोर्ट में पी चिदंबरम की तरफ से कुछ कागजात साइन करने की मांगी गई, जिसमें पार्लियामेंट के पास का फार्म और चिदंबरम के जोर बाग स्थित पंजाब नेशनल बैंक खाते की 1 अप्रैल से लेकर 18 सितंबर 2019 की बैंक स्टेटमेंट से संबंधित कागजात हैं. सीबीआई ने ऐतराज किया लेकिन कोर्ट ने चिदंबरम को कागजात पर हस्ताक्षर करने की अनुमति दी.
  • कोर्ट ने पी चिदंबरम के परिजनों को मिलने की इजाजत दी.
  • पी चिदंबरम की तरफ से कहा गया है कि उनकी एम्स या राम मनोहर लोहिया अस्पताल में जांच करवाई जाए और उनके परिजनों को मिलने की इजाजत दी जाए.
  • सिब्बल ने कहा-
    – चिदंबरम के पेट में दर्द है और पीठ में भी
    – तिहाड़ में इन्हें बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं दी गई
    – सिर्फ बेड है, पिलो तक नहीं दिया गया
    – तीन दिन पहले तक कुर्सी थी
    – दिन भर बेड में नहीं बैठ सकते
    – इस वजह से पीठ में दर्द हो गया है.
  • सिब्बल ने कहा- पी चिदंबरम को क‌ई बीमारियां हैं. हम उनका मेडिकल टेस्ट चाहते हैं. डॉक्टर जांच के बाद जो कहेंगे हमें स्वीकार्य होगा. हिरासत की अवधि छोटी होनी चाहिए, न्यायिक हिरासत में उनका वजन भी घटा है.
  • सिंघवी- पी चिदंबरम पहले ही 14 दिन की न्यायिक हिरासत में रह चुके हैं, अब आगे न्यायिक हिरासत बढ़ाने के लिए कोई ठोस कारण होना चाहिए.

  • सीबीआई ने 3 अक्टूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत बढ़ाने के लिए कहा.
  • कपिल सिब्बल ने सीबीआई की मांग का विरोध करते हुए कहा कि सीबीआई ने अपनी याचिका में कोई कारण नहीं बताया कि पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत क्यों बढ़ाई जाए?
  • सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा- सीबीआई पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत बढ़ाने की मांग करती है.
  • स्पेशल जज अजय कुमार कुहार कोर्ट में बैठ गए हैं. कोर्ट की कार्रवाई शुरू. पी चिदंबरम को कोर्ट में लाया गया.
  • पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की तरफ से एक अर्जी दाखिल की गयी जिसमें कहा गया है कि चिदंबरम की नियमित मेडिकल जांच हो. साथ ही चिदंबरम को भरपूर पोषण युक्त भोजन दिया जाए. याचिका में कहा गया है कि न्यायिक हिरासत में चिदंबरम का वजन कम हुआ है. सीबीआई की तरफ से पैरवी करने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता भी कोर्ट पहुंचे.

ये भी पढ़ें-

‘भगवा चोले में बलात्कारी’ आर्टिकल शेयर कर फिर विवादों में घिरे दिग्विजय सिंह, विरोध में लगे पोस्टर

तेजस में उड़ान भरते ही राजनाथ सिंह ने बना लिया रिकॉर्ड, जानें क्यों खास है ये लड़ाकू विमान

कैप्टन ने जो-जो कहा वो मैं करता रहा, तेजस उड़ान के बाद बोले राजनाथ सिंह