कश्मीर की डराने वाली तस्वीर पेश की जा रही जो सच नहीं: आईपीएस अधिकारी

जम्मू- कश्मीर के एक सीनियर आईपीएस अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि कश्मीर की डराने वाली तस्वीर पेश की जा रही है.

जम्मू और कश्मीर के एक सीनियर आईपीएस अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि कश्मीर की डराने वाली तस्वीर पेश की जा रही है. वास्तव में ऐसा कुछ नहीं है. पुलिस अधिकारी इम्तियाज हुसैन ने ट्वीट कर कश्मीर की स्थिति पर फैलाई जा रही फर्जी खबरों की पोल खोली.

हुसैन ने अपने ट्वीट में लिखा ‘सामान्यीकरण और अतिशयोक्ति. एक अपवाद घटना(जिसका संज्ञान लिया गया होगा) को मानक नहीं समझा जा सकता. किशोरों से किशोर कानून के मुताबिक निपटा जा रहा है. एक चौंकाने वाली तस्वीर जो असल में मौजूद नहीं है.’

हुसैन पत्रकार राना अयूब के ट्वीट का जवाब दे रहे थे जिसमें दावा किया गया था कि 12 साल के बच्चों को हिरासत में लिया जा रहा है. आधी रात को छापे मारकर उन्हें पीटा जा रहा है. लड़कों को बिजली के झटके दिए जाते हैं, जिनके परिवार उन ठिकानों से अनजान हैं.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 का खात्मा केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को कर दिया था. सावधानी के लिए राज्य में मोबाइल और इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें:

पाकिस्तान की हालत भिखारियों जैसी है, ये किसी का सगा नहीं: तारेक फतेह Exclusive

पीएम मोदी की आलोचना कर रहे थे पाकिस्तान के रेलमंत्री, लग गया करंट

आर्टिकल 370 हटने के बाद पहली बार घाटी में आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत