कश्मीर में उपद्रवियों को उकसाने के लिए पैसे दे रहा पाकिस्तान, सुप्रीम कोर्ट में बड़ा खुलासा

कहा गया कि कश्मीर के लोग वहां के हाई कोर्ट का दरवाजा भी नहीं खटखटा सकते. इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अगर वाकई ऐसे हालात हैं तो वो खुद श्रीनगर जा सकते हैं.

नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी ( Pakistan behind Kashmir violence ) हाई कमीशन कश्मीर ( Kashmir ) में लोगों को उकसा रहा है. केंद्र सरकार की ओर से अटर्नी जनलर केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट को ये जानकारी दी. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुआई वाली पीठ कश्मीर को लेकर कई अर्जियों पर सुनवाई कर रही थी.

कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने अपनी अर्जी में कहा कि कश्मीर में आर्टिकल 370 के हटने के बाद से बंदिशें लागू हैं. आम लोगों की आजादी छिन गई है. कई तरह के प्रतिबंध लागू हैं. एक से दूसरे इलाके में लोगों की आवाजाही पर रोक है.

इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने उन्हें कश्मीर जाने की अनुमति दी. इसके बाद कहा गया कि कश्मीर के लोग वहां के हाई कोर्ट का दरवाजा भी नहीं खटखटा सकते. इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अगर वाकई ऐसे हालात हैं तो वो खुद श्रीनगर जा सकते हैं.

इस बीच सरकार ने कश्मीर में सुरक्षा के मद्देनजर किए जा रहे इंतजामों को सही ठहराया. अटर्नी जनलर केके वेणुगोपाल ने जजों को बताया कि कश्मीरियों को बहका कर हिंसा फैलाने की साजिश हो रही है ( Pakistan behind Kashmir violence ) . उन्होंने कहा कि इसमें नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी हाई कमीशन का भी हाथ है.

नरेंद्र मोदी सरकार ने पांच अगस्त को आर्टिकल 370 और 35 ए हटा दिया था. इसके साथ ही कश्मीर के लिए विशेष संवैधानिक प्रावधान खत्म कर दिए गए.