पाक खिलाड़ियों के लिए बिरयानी-मिठाई बैन, मुख्य कोच मिस्बाह उल हक का फरमान

मिसबाह ने आदेश जारी किए हैं कि घरेलू सत्र के दौरान और राष्ट्रीय शिविर में खिलाड़ियों के लिये किसी भी तरह से भारी आहार उपलब्ध नहीं होगा क्योंकि खिलाड़ियों को राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए सर्वश्रेष्ठ फिटनेस हासिल करनी होगी.

इस्लामाबाद: 2019 वर्ल्ड कप में भारत से हार मिलने के बाद पाकिस्तान टीम की फिटनेस को लेकर तमाम सवाल उठाए गए थे. खेल के बीच पाक के कप्तान सरफराज अहमद उबासी लेते हुए कैमरे में कैद हो गए थे. जिसके बाद ये बताया गया कि मैच से ठीक एक रात पहले ही पाकिस्तान टीम ने बर्गर, पिज्जा बिरयानी जैसे जंक फूड खाया था. अब पाकिस्तान के नए मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिसबाह उल हक ने घरेलू टूर्नामेंट और राष्ट्रीय शिविर में भाग ले रहे खिलाड़ियों की डाइट बदल दी है.

मिसबाह ने आदेश जारी किए हैं कि घरेलू सत्र के दौरान और राष्ट्रीय शिविर में खिलाड़ियों के लिये किसी भी तरह से भारी आहार उपलब्ध नहीं होगा क्योंकि खिलाड़ियों को राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए सर्वश्रेष्ठ फिटनेस हासिल करनी होगी. कायदे आजम ट्रॉफी मैच में खिलाड़ियों के लिए भोजन व्यवस्था देख रही कंपनी के एक सदस्य ने कहा, ”खिलाड़ियों को अब बिरयानी और तेल युक्त रेड मीट वाला भोजन या मिठाई नहीं परोसी जाएगीच.”

बता दें कि पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर मिसबाह को हाल में टीम का मुख्य कोच और चीफ सिलेक्टर नियुक्त किया गया है. वहीं, पूर्व तेज गेंदबाज वकार यूनिस टीम के बॉलिंग कोच की जिम्मेदारी निभाएंगे. दोनों ही तीनों फॉर्मेट में ये जिम्मेदार निभाएंगे और इसके लिए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) से उन्होंने तीन साल का कॉन्ट्रैक्ट भी साइन कर लिया है.

मई 2017 में ही मिसबाह ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा था. उन्होंने कहा, ‘ये मेरे लिए सम्मान की बात है और उससे भी बढ़कर एक बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि हम क्रिकेट ही जीते हैं और हमारी सांसों में क्रिकेट बसा है.’