Video: घाटी में अमन पाकिस्तान को नहीं बर्दाश्त, POK के 200 युवाओं को आतंकी कैंपों में भेजा?

विश्वसनीय सूत्रों के मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान ने अपने कब्जे वाले कश्मीर में 200 युवाओं को आतंकी ट्रेनिंग देने के लिए चुना है. इन युवाओं को आतंकी शिविरों में भेज दिया गया है.

नई दिल्ली: Article 370 को खत्म करने के बाद घाटी से तो कोई बुरी खबर नहीं आई लेकिन पाकिस्तान बुरी तरह बेचैन है. जम्मू कश्मीर, लद्दाख के पुनर्गठन से बौखलाया पाकिस्तान अब एक बार फिर से भारत के खिलाफ छद्म युद्ध छेड़ने की कोशिशों में जुट गया है.

विश्वसनीय सूत्रों के मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान ने अपने कब्जे वाले कश्मीर में 200 युवाओं को आतंकी ट्रेनिंग देने के लिए चुना है. इन युवाओं को आतंकी शिविरों में भेज दिया गया है. ट्रेनिंग के बाद इनकी सीमा पार आतंकवाद के मकसद से भारत में घुसपैठ कराई जाएगी. पाकिस्तान की इस नापाक साजिश के पीछे किसी बड़े आतंकी संगठन का हाथ हो सकता है.

सुरक्षा बलों को हाल ही में मिली रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तान ने 150 से 200 युवाओं को आतंकी ट्रेनिंग के लिए भेजा है. ट्रेनिंग के बाद इन आतंकी कमांडरों को जम्मू-कश्मीर में हमलों को अंजाम देने के लिए घुसपैठ कराई जा सकती है. आतंकवाद के लिए कश्मीरियों को ही चुनने के पीछे पाकिस्तान का मकसद यह है कि दुनिया को दिखाया जा सके कि आतंकवाद जम्मू-कश्मीर का आंतरिक मसला है.

PM नरेंद्र मोदी आज कर सकते हैं देश को संबोधित, कश्मीर पर करेंगे बात?

घाटी में सुरक्षाबलों की चौकसी और खूफिया तंत्र के कारण आतंकियों की संख्या में लगातार कमी आ रही है. आतंकियों के सफाए के लिए घाटी में ऑपरेशन ऑल आउट चलाया गया था. इस ऑपरेशन में बड़ी संख्या में आतंकियों को मारा गया था.

सुरक्षा बलों का मानना है कि भले ही लाइन ऑफ कंट्रोल पर शांति की स्थिति है, लेकिन पाकिस्तान सीमा पर सरगर्मी बढ़ा सकता है. इसके अलावा वह भारतीय सीमा में आतंकियों की घुसपैठ को बढ़ाने पर भी जोर दे सकता है. सुरक्षा बलों के मुताबिक बीते कुछ वक्त से पीओके में खाली पड़े आतंकी कैंपों में एक बार फिर से बड़े पैमाने पर हथियारों के साथ हलचल देखने को मिल रही है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू एवं कश्मीर को दिए गए विशेष राज्य के दर्जे को समाप्त करने के भारत के फैसले पर चीनी नेतृत्व के साथ विचार-विमर्श करने शुक्रवार को बीजिंग पहुंचे. चीन के लिए उड़ान भरने से पहले कुरैशी ने पाकिस्तानी मीडिया से कहा, “भारत अपने असंवैधानिक तौर-तरीकों से क्षेत्रीय शांति को बाधित करने पर आमादा है. चीन न केवल पाकिस्तान का मित्र है, बल्कि क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण देश भी है.” विदेश मंत्री ने पत्रकारों से कहा कि वह स्थिति पर चीनी नेतृत्व को विश्वास में लेंगे.

“कश्मीर हमारा है, आतंकवाद के लिए बहाने ढूंढ रहा पाकिस्तान”, PAK पैंतरे पर भारत का जवाब

‘पैसे देकर किसी को भी ला सकते हो साथ’, अजित डोभाल के वीडियो पर बोले गुलाम नबी आजाद

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *