कुछ लोगों की महत्वाकांक्षा का परिणाम है भारत-पाकिस्तान बंटवारा: जितेंद्र सिंह

'हम समझ चुके हैं कि बंटवारा कुछ लोगों की महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए हुआ था. वर्ना कश्मीर में जो कुछ हो रहा है वह नहीं होता. तब न 370 आर्टिकल होता, न ही उसे हटाना पड़ता.'

नई दिल्ली: ‘भारत-पाकिस्तान का बंटवारा आधुनिक भारत की सबसे बड़ी ग़लती है’ ये कहना है पीएमओ में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह का. राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने शुक्रवार को दिल्ली में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि गर बंटवारा न हुआ होता तो 370 आर्टिकल हटाने की जरूरत ही नहीं पड़ती क्योंकि तब वह लगा ही नहीं होता. बतौर राज्यमंत्री भारत-पाकिस्तान कुछ लोगों की महत्वाकांक्षा का परिणाम है.

उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘आधुनिक भारत में बंटवारा सबसे बड़ी गलती थी. गांधीजी ने कहा था कि अगर बंटवारा हुआ तो वह मेरी लाश के ऊपर से होगा. वह दुखी थी और पहले स्वतंत्रता दिवस पर बंगाल चले गए थे.’

जितेंद्र सिंह ने आगे कहा, ‘हम समझ चुके हैं कि बंटवारा कुछ लोगों की महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए हुआ था. वर्ना कश्मीर में जो कुछ हो रहा है वह नहीं होता. तब न 370 आर्टिकल होता, न ही उसे हटाना पड़ता.’

उन्होंने कहा कि इस एक घटना की वजह से इतिहास में हम कितना आगे गए या पीछे आए, इसका आकलन आप खुद कर सकते हैं. जितेंद्र सिंह ने कहा कि द्वि-राष्ट्र के जिस सिद्धांत पर भारत का बंटवारा हुआ था, बांग्लादेश बनने के साथ ही वो सिद्धांत अर्थहीन हो गया.

बता दें कि जितेंद्र सिंह ने कुछ दिन पहले ही अनुच्छेद 370 हटाने को मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि बताया था और कहा था कि पीओके हमारा अगला एजेंडा है.