जिस पार्टी में अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा जैसे नेता, उससे दूर रहना पसंद करूंगी- बंगाली एक्ट्रेस सुभद्रा मुखर्जी

सुभद्रा मुखर्जी ने कहा कि 2013 में मैंने बीजेपी ज्वाइन की थी. उस समय मैं पार्टी के काम करने के तरीकों से काफी प्रभावित हुई थी लेकिन पिछले कुछ सालों से मैंने गौर किया कि चीजें अब सही दिशा में नहीं चल रही हैं.
Bengali actress Subhadra Mukherjee Resign From BJP, जिस पार्टी में अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा जैसे नेता, उससे दूर रहना पसंद करूंगी- बंगाली एक्ट्रेस सुभद्रा मुखर्जी

बंगाली फिल्मों की मशहूर एक्ट्रेस सुभद्रा मुखर्जी ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने 2013 में पार्टी की सदस्यता ली थी. इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि उन्होंने दिल्ली हिंसा के कारण पार्टी छोड़ी है. मुखर्जी ने कहा, “जिस पार्टी में अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा जैसे नेता हों ऐसी पार्टी से मैं दूर रहना ही पसंद करूंगी.”

सुभद्रा मुखर्जी ने कहा कि 2013 में मैंने बीजेपी ज्वाइन की थी. उस समय मैं पार्टी के काम करने के तरीकों से काफी प्रभावित हुई थी लेकिन पिछले कुछ सालों से मैंने गौर किया कि चीजें अब सही दिशा में नहीं चल रही हैं. सुभद्रा मुखर्जी ने कई फिल्मों और टीवी धारावाहिकों में काम किया है.

‘धर्म के नाम पर लोगों की पहचान ही बीजेपी की असल विचारधारा’

मैंने महसूस किया कि घृणा की भावना और लोगों को उनके धर्म से पहचाने जाने की भावना बीजेपी की असल विचारधारा है. इसलिए काफी विचार के बाद मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया है. मुखर्जी ने आगे बताया कि वह पहले ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष को अपना इस्तीफा भेज चुकी हैं. अगर वो मान्य नहीं होगा, तो मैं व्यक्तिगत रूप से जाकर अपना इस्तीफा उन्हें सौंप दूंगी.

‘अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा पर कार्रवाई क्यों नहीं?’

दिल्ली हिंसा पर सुभद्रा ने कहा, “देखिए दिल्ली में क्या हुआ. कितने लोग मारे गए और कितने ही घरों में आग लगा दी गई. दंगे ने लोगों को बांट दिया है. नफरत फैलाने वाले भाषण के लिए अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा जैसे पार्टी नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. क्या हो रहा है?” उन्होंने आगे कहा कि हिंसा के दृश्यों ने मुझे पूरी तरह से हिला दिया है. मैंने सोचा कि मुझे ऐसी पार्टी में नहीं होना चाहिए जो अपनी ही पार्टी के नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने में सिलेक्टिव हो. उन्होंने कहा, “वह ऐसी पार्टी से दूर रहना ही पसंद करेंगी जिसमें ठाकुर और मिश्रा जैसे लोग हैं.”

‘नागरिकता देने के नाम पर हर भारतीय के जीवन के साथ खिलवाड़ क्यों?’

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर एक्ट्रेस ने कहा, “यह उन लोगों को नागरिकता प्रदान करने का एक अच्छा निर्णय है जो संकट के बीच पड़ोसी देशों से आ रहे हैं, लेकिन उन्हें नागरिकता देने के नाम पर, आप हर भारतीय के जीवन के साथ क्यों खिलवाड़ कर रहे हैं? क्यों अचानक हमें अपनी नागरिकता साबित करने की जरूरत पड़ रही है? मैंने इस कदम की निंदा की. मुझे लगता है कि वे मानवता को मार रहे हैं और राक्षसों को जन्म दे रहे हैं. इस तरह के कदम से लोगों में असुरक्षा की भावना पैदा होगी. इससे न केवल राष्ट्रीय राजधानी में बल्कि पूरे देश में अशांति पैदा होगी.”

ये भी पढ़ें:

 

Related Posts