Exclusive: निर्भया केस के इकलौते गवाह के खिलाफ दोषी पवन गुप्ता के पिता पहुंचे कोर्ट, कहा- बेटा निर्दोष

याचिका में कहा गया है कि पीड़िता का दोस्त और उसकी गवाही जिसपर सभी दोषियों को फांसी की सजा मिली है, वो विश्वसनीय नहीं है.

निर्भया के चार दोषियों में से पवन गुप्ता के पिता हीरा लाल गुप्ता ने निर्भया के दोस्त और वारदात के इकलौते चश्मदीद गवाह (अविंदर पांडे) के खिलाफ दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में क्रिमिनल केस दायर किया है.

याचिका में कहा गया है कि पीड़िता का दोस्त और उसकी गवाही जिसपर सभी दोषियों को फांसी की सजा मिली है, वो विश्वसनीय नहीं है. इस बात का खुलासा गई जगह हो चुका है.

पवन के पिता का कहना है कि निर्भया के दोस्त के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज होना चाहिए. उन्होंने कहा कि ‘वो पुलिस के पास भी गए थे लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया. इसलिए शिकायतकर्ता ने कोर्ट से धारा 156( 3) के तहत पुलिस को केस दर्ज करने का आदेश दिया जाए और मामले के मुख्य गवाह के बयानों की दोबारा जांच की जाए.’

दरअसल, ये फांसी की प्रक्रिया को लंबे समय तक टालने की एक कोशिश है. निर्भया के एक दोषी पवन गुप्ता की तरफ से मामले के इकलौते गवाह के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करवाया जा रहा है.

वहीं, दूसरे आरोपी अक्षय ने अंतिम समय में सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल की है. इसके अलावा तीसरे दोषी विनय कुमार ने राष्ट्रपति के सामने दया याचिका दायर की हुई है.

कुल मिलाकर मकसद यही है कि जितना हो सके मामले को लटकाया जा सके, क्योंकि जबतक कोई दोषियों की कोई भी याचिका लंबित रहती है तबतक डेथ वारंट जारी नहीं किया जा सकता.

बता दें कि इस मामले में 13 दिसंबर को पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई है. कोर्ट ने सभी पक्षों को मौजूद रहने और मामले का स्टेटस बताने के लिए कहा है. अब देखना ये होगा कि कोर्ट मामले के इकलौते और चश्मदीद गवाह के खिलाफ दायर आपराधिक मामला पर क्या रुख रखता है.

ये भी पढ़ें-

दिशा गैंगरेप के बाद आंध्र प्रदेश में नया बिल पास, 21 दिन में दोषी को दी जाएगी फांसी

ट्रेन से उतरने में हुई लड़ाई, टूटे बटन तो मोलेस्टेशन में 38 साल की महिला गिरफ्तार

Related Posts