मंगलुरु एयरपोर्ट पर बम प्‍लांट करने वाले युवक ने 14 साल में बदलीं 19 नौकरियां

गिरफ्तार युवक आदित्य राव ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर, सेल्स एजूकेटिव, प्रोडक्शन इंजीनियर, कुक, बारटेंडर, होटल कैशियर के अलावा सुरक्षा गार्ड तक की नौकरी की है. इन सभी नौकरियों में आदित्य राव ने सबसे ज्यादा समय लगभग 18 महीने तक बेंगलुरु के एक निजी फर्म में बिताया है.

मंगलौर एयरपोर्ट पर बम लगाने के आरोप में सोमवार को गिरफ्तार युवक आदित्य राव पिछले 14 साल में 19 नौकरी बदल चुका है. आदित्य राव ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर, सेल्स एजूकेटिव, प्रोडक्शन इंजीनियर, कुक, बारटेंडर, होटल कैशियर के अलावा सुरक्षा गार्ड तक की नौकरी की है. इन सभी नौकरियों में आदित्य राव ने सबसे ज्यादा समय लगभग 18 महीने तक बेंगलुरु के एक निजी फर्म में बिताया है.

गिरफ्तार युवक उडुपी कर्नाटक का रहने वाला है. इसके अलावा साल 2018 में केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर बम होने की अफवाह फैलाने के लिए वह एक साल के लिए जेल में भी रहा है. पुलिस के पूछताछ में आरोपी युवक आदित्य राव ने बताया कि उसने प्रारंभिक पढ़ाई मुंबई से की है, फिर साल 1998 में हाई स्कूल कोडागु से किया है. इसके बाद साल 2004 में उसने मैंकेनिकल इंजीनियरिंग और साल 2006 में एमबीए मैसूर से किया है. उसी साल वह सेल्स एजूकेटिव के रूप में एक मल्टीनेशनल बैंक में काम करने लगा. 13 महीने काम करने के बाद आदित्य राव ने साल 2017 में दूसरा बैंक ज्वाइन कर लिया.

पुलिस ने बताया कि इसके बाद आदित्य राव ने साल 2008 में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर काम करने लगा. वहां 18 महीने तक काम करने के बाद वह उडुपी लौट गया. कुछ दिन अपने परिवार के साथ रहने के बाद वह तीन अलग- अलग होटलों में कैशियर के तौर पर काम किया. इसके बाद वह साल 2013 से 2016 तक कुक के तौर पर काम किया.

वहीं, केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आदित्य राव को गार्ड की नौकरी नहीं मिली, तो उसने पुलिस को कॉल कर बम की अफवाह फैला दिया. इस अपराध के लिए एक साल जेल में बिताने के बाद उसने दो होटल में भी नौकरी की, लेकिन आखिरकार मेंगलुरु एयरपोर्ट पर विस्फोटक रखने की कोशिश में उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

ये भी पढ़ें –  निर्भया केस: दोषी विनय की दरिंदा डायरी और पेंटिंग कोर्ट में पेश, तिहाड़ ने सौंपे सभी दस्तावेज