ग्लोबल सप्लाई के एक सोर्स पर निर्भरता के जोखिम को कोरोना ने किया उजागर : PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को भारत-डेनमार्क (India-Denmark) के बीच वर्चुअल शिखर सम्मेलन को संबोधित किया. इस मौके पर उन्होंने कोरोना (Corona) सहित कई अहम मुद्दों पर डेनमार्क प्रधानमंत्री के साथ चर्चा की.

Photo Credit : ANI (Twitter)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को डेनमार्क (Denmark) की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिकसन के साथ डिजिटल द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन में कहा कि कोरोना वायरस (Corona Virus) ने एक स्रोत पर निर्भर ग्लोबल सप्लाई चेन (Global Supply Chain) के जोखिम को उजागर किया. उन्होंने कहा कि भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ सप्लाई चेन में विविधता लाने के लिए काम कर रहा है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि समान विचारधारा वाले देश सप्लाई चेन में विविधता लाने की पहल में हमारे साथ आ सकते हैं, उनका स्वागत है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 ने ग्लोबल सप्लाई के लिए एक ही स्रोत पर निर्भरता के जोखिम को उजागर किया है.

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड: नमामि गंगे के तहत 6 मेगा प्रोजेक्ट का उद्घाटन करेंगे PM मोदी

बता दें कि कोविड-19 वायरस की शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई थी,जिसके बाद विश्व की कई कंपनियां अपना मैन्युफैक्चरिंग बेस चीन से शिफ्ट करने की योजना बना रही हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले कुछ महीनों की घटनाओं ने यह स्पष्ट कर दिया कि समान विचारधारा वाले देशों का, जो मानवीय और लोकतांत्रिक मूल्य- प्रणाली को साझा करते हैं, एक साथ काम करना कितना जरूरी है.

उन्होंने कहा कि वर्चुअल समिट न सिर्फ भारत और डेनमार्क के बीच द्विपक्षीय संबंधों के लिए उपयोगी होगा बल्कि वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए एक नया दृष्टिकोण भी देगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ महीनों पहले उनकी डेनमार्क की प्रधानमंत्री के साथ एक बड़ी ‘प्रोडक्टिव मीटिंग’ हुई थी, जिसमें उन्होंने कई क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की थी.

भारत ने की सम्मेलन की मेजबानी

भारत ने वर्चुअल शिखर सम्मेलन की मेजबानी की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वैक्सीन के डेवलेपमेंट में एकसमान विचारधारा वाले देशों के बीच आपसी सहयोग से कोविड-19 महामारी से निपटने में मदद मिलेगी.

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान भारत की फार्मा क्षमताएं पूरे विश्व के लिए मददगार साबित हुईं और वैक्सीन निर्माण की दिशा में भी ऐसा ही प्रयास किया जा रहा है. PM मोदी ने डेनमार्क की प्रधानमंत्री को उनकी शादी के लिए बधाई दी और कहा कि उम्मीद है कि हालात सामान्य होने के बाद जल्द से जल्द वो भारत का दौरा करेंगी.

डेनमार्क PM ने दिया धन्यवाद

डेनमार्क की प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी का धन्यवाद दिया और कहा कि, ‘मेरे परिवार को बधाई देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. मेरी बेटी और मेरा परिवार एक बार फिर भारत आना बहुत पसंद करेंगे.’

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार भारत और डेनमार्क के बीच वस्तु और सेवाओं में द्विपक्षीय व्यापार 2016 और 2019 के बीच 30.49 फीसदी बढ़ा है. यह 2.82 अरब डॉलर से बढ़कर अब 3.68 अरब डॉलर हो गया है. भारत में करीब 200 डेनिश कंपनियों ने निवेश किया है जबकि डेनमार्क में 25 भारतीय कंपनियां आईटी, अक्षय ऊर्जा और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कार्यरत हैं.

यह भी पढ़ें : बच्ची ने लिया दादा का इंटरव्यू, भावविभोर हुए पीएम मोदी ने कही ये बात

Related Posts