CAA विरोधी प्रदर्शनों को शांत कर सकते हैं मोदी और शाह, लेकिन उनका इरादा नहीं : शशि थरूर

थरूर ने कहा, "प्रदर्शन रुक सकता है, अगर नरेंद्र मोदी और अमित शाह कहे कि हम एनआरसी का विचार छोड़ रहे हैं और एनपीआर गणना नहीं होगी और घर-घर जाकर यह नहीं पूछेंगे कि आप के माता-पिता कहां पैदा हुए और दस्तावेजी सबूत नहीं मांगेंगे."

PM Modi and Amit Shah can stop anti-CAA protest, CAA विरोधी प्रदर्शनों को शांत कर सकते हैं मोदी और शाह, लेकिन उनका इरादा नहीं : शशि थरूर

कांग्रेस पार्टी के सांसद और वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने रविवार को नागरिकता कानून को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधा. थरूर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह अगर चाहें तो विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर देशभर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों को शांत करवा सकते हैं, लेकिन उनका ऐसा कोई इरादा नहीं है.

चार दिवसीय केरल लिटरेचर फेस्टिवल के अंतिम दिन थरूर ने कहा, “प्रदर्शन रुक सकता है, अगर नरेंद्र मोदी और अमित शाह कहे कि हम एनआरसी का विचार छोड़ रहे हैं और एनपीआर गणना नहीं होगी और घर-घर जाकर यह नहीं पूछेंगे कि आप के माता-पिता कहां पैदा हुए और दस्तावेजी सबूत नहीं मांगेंगे.” हालांकि, उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और गृहमंत्री दोनों इस तरह का भरोसा देने के लिए तैयार नहीं हैं.

केरल लिटरेचर फेस्टिवल के इसी मंच पर थरूर से पहले एक और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल भी नागरिकता कानून पर अपने विचार रख चुके हैं. उन्होंने कहा था कि राज्यों को नागरिकता कानून पास होने के बाद इसे ना लागू करने का कोई अधिकार नहीं है. सिब्बल ने कहा था कि अगर कोई राज्य इसे लागू करने से मना करता है तो यह असंवैधानिक होगा. हालांकि उन्होंने कहा कि राज्य इसका विरोध जरूर कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: राजगढ़ घटना पर कांग्रेस ने किया पलटवार, नरेंद्र सलूजा बोले- माफी मांगे BJP

Related Posts