कैसे पीएम मोदी और स्पेशलिस्ट की टीम देश को कोरोना से बचाने में जुटी है, जानें Inside Story

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संकट के बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) हर रोज 17 से 18 घंटे काम कर रहे हैं. प्रधानमंत्री स्पेशलिस्ट की 11 कोर टीमों के साथ काम कर रहे. ये टीमें 24 घंटे मिशन मोड में काम कर रही हैं.
PM modi and his team plan to fight corona, कैसे पीएम मोदी और स्पेशलिस्ट की टीम देश को कोरोना से बचाने में जुटी है, जानें Inside Story

कोरोना जैसे खतरनाक वायरस को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और उनके स्पेशलिस्ट की एक बड़ी टीम काम कर रही है. यह टीम कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई में मिनट टू मिनट की गतिविधियों पर नजर रख रही है. दुनिया के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले देश में कम्युनिटी स्प्रेड‘ (community spread) को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन (lockdown) का फैसला अपनी टीम में शामिल इन्हीं विशेषज्ञों की राय पर लिया था.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

कोरोना वायरस (coronavirus) के संकट के बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर रोज 17 से 18 घंटे काम कर रहे हैं. पीएमओ के हायर अथॉरिटीज का कहना है कि प्रधानमत्री मोदी अक्सर सुबह तीन बजे तक या उससे भी अधिक समय तक जागकर मॉनीटरिंग करते हैं. बैठकों का सिलसिला देर रात तक चलता है. इन बैठकों में प्रधानमंत्री उच्चस्तरीय समूहों की ओर से महामारी को रोकने के लिए उठाए जाने वाले कदमों की समीक्षा करते हैं.

सात लोक कल्याण मार्ग स्थित अपने कैंप कार्यालय से लगातार वीडियो कांफ्रेंसिंग करने और प्रमुख कैबिनेट मंत्रियों से परामर्श करने के अलावा प्रधानमंत्री मोदी स्पेशलिस्ट की 11 कोर टीमों के साथ काम कर रहे. ये टीमें 24 घंटें मिशन मोड में काम कर रहीं. जिसमें डॉक्टर, जैव-वैज्ञानिक, महामारी स्पेशलिस्ट और अर्थशास्त्री शामिल हैं. सभी विशेषज्ञ अलग-अलग समूहों में काम कर रहे हैं.

पीएमओ के सूत्रों ने बताया कि मौजूदा समय प्रधानमंत्री इमरजेंसी मेडिकल मैनेजमेंट प्लान पर ज्यादा फोकस कर रहे हैं. इस टीम का नेतृत्व नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी पॉल कर रहे हैं. इस टीम में मोदी के सहयोगी और पीएमओ में निदेशक लेवल के अधिकारी राजेंद्र कुमार भी हैं. प्रधानमंत्री मोदी रोग नियंत्रण, टेस्टिंग और हास्पिटल्स तथा क्वारंटाइन के इंतजामों पर भी खासा ध्यान दे रहे हैं.

पर्यावरण सचिव सीके मिश्रा के नेतृत्व वाली इस टीम में एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया, महामारी विशेषज्ञ डॉ. रमन हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने पीएमओ के अपने भरोसेमंद अफसरों डॉ. श्रीकर परदेशी और मयूर माहेश्वरी को भी इस टीम में रखा है. ग्रुप में शामिल एक अधिकारी ने बताया, “मोदी जी मिशन मोड में काम कर रहे. वह देश ही नहीं दुनिया में कोरोना वायरस से जुड़े आंकड़ों पर पूरी नजर रखते हैं. मसलन, कितने लोग पॉजिटिव मिले, कितने लोगों की जांच हुई और कितने लोग इलाज से स्वस्थ हुए, ऐसे ताजातरीन अपडेट लेते रहते हैं.”

ये 11 कोर ग्रुप भले ही पीएमओ को महत्वपूर्ण जानकारियों से अपडेट करते रहते हैं, फिर भी मोदी के प्रधान सचिव पीके मिश्रा विशेषज्ञों के साथ लगातार संपर्क में रहते हैं. इस काम में पीके मिश्रा का सहयोग दो अफसर करते हैं. एक अफसर हैं तरुण बजाज, जो कि 1988 बैच के हरियाणा काडर के आईएएस हैं और पिछले पांच साल से प्रधानमंत्री मोदी के साथ काम कर रहे हैं. दूसरे अफसर हैं एके शर्मा, जो कि गुजरात के दिनों से ही मोदी के भरोसेमंद रहे हैं.

सूत्रों का कहना है कि कोरोना की रोकथाम से जुड़ीं ज्यादातर बैठकों में चर्चा और जरूरी नोट का आदान-प्रदान प्रधान सचिव पीके मिश्रा और स्पेशलिस्ट के बीच होता है मगर महत्वपूर्ण निर्णयों के तुरंत लिए जाने की आवश्यकता पड़ने पर प्रधानमंत्री मोदी को इस बातचीत में शामिल होने में कुछ ही समय लगते हैं. एक अधिकारी ने कहा, “मीटिंग के दौरान सोशल डिस्टैंसिंग का पालन होता है. मंत्री भी सुरक्षित दूरी रखते हैं.”

पिछले सौ वर्ष में पहली बार किसी महामारी का इतना बड़ा प्रकोप भारत झेल रहा है. ऐसे में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में प्रधानमंत्री मोदी को निजी और गैर सरकारी संगठनों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और सामाजिक समूहों के योगदान का अहसास होता है. कोरोना के खिलाफ जंग में एनजीओ और प्राइवेट सेक्टर के बीच समन्वय बनाने में नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के नेतृत्व में एक टीम काम कर रही है.

पीएमओ में संयुक्त सचिव गोपाल बागले, अमिताभ कांत के साथ मिलकर एनजीओ और प्रमुख कंपनियों से धन जुटाने में मदद कर रहे है. इस टीम की कोशिशों का ही नतीजा है कि टाटा से लेकर रिलायंस और भारती से लेकर अडानी समूह तक कई बड़े कॉरपोरेट घरानों ने पीएम केयर में बड़ी धनराशि दी है. इस टीम की बदौलत प्रमुख गैरसरकारी संगठनों की मदद से निजी क्षेत्र ने राज्य सरकारों और स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर पूरे देश में गरीबों को भोजन और आश्रय की सुविधा प्रदान करने की दिशा में काम शुरू किया है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

-IANS

Related Posts