PM मोदी ने दृष्टिबाधित युवक को दिया मोबाइल तो लेने लगा सेल्फी, सोशल मीडिया में वायरल हुआ Video

दृष्टिबाधित युवक जब सेल्फी लेने लगा तो पीएम मोदी ने उसकी मदद की. इस लम्हें को सभी ने अपने मोबाइल पर कैद किया. सेल्फी के बाद युवक को मंच से नीचे ले जाया गया.
PM Modi In Prayagraj, PM मोदी ने दृष्टिबाधित युवक को दिया मोबाइल तो लेने लगा सेल्फी, सोशल मीडिया में वायरल हुआ Video

प्रयागराज: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूपी दौरे पर हैं. सबसे पहले पीएम मोदी प्रयागराज पहुंचे और दिव्यांगों को उपकरण बांटें. इस दौरान एक तस्वीर ने सबका दिल लिया. सोशल मीडिया में उनका ये वीडियो काफी वायरल हो रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी से इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लेने के लिए एक दृष्टिबाधित युवक मंच पर आया. पीएम मोदी ने सबसे पहले उससे हाथ मिलाए और कुछ बातें की. इसके बाद पीएम मोदी ने उसको इलेक्ट्रॉनिक छड़ी दी. इसके बाद उसको मोबाइल फोन दिया गया. युवक ने उत्सुकता से मोबाइल को कवर से बाहर किया और फिर पीएम मोदी के साथ सेल्फी लेने लगा.

दृष्टिबाधित युवक जब सेल्फी लेने लगा तो पीएम मोदी ने उसकी मदद की. इस लम्हें को सभी ने अपने मोबाइल पर कैद किया. सेल्फी के बाद युवक को मंच से नीचे ले जाया गया.

जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वरिष्ठ जन हों, दिव्यांगजन या आदिवासी हों, दलित-पीड़ित, शोषित, वंचित हों, 130 करोड़ भारतीयों के हितों की रक्षा करना, उनकी सेवा करना, हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज(शनिवार को) परेड मैदान में दिव्यांगजनों को उपकरण वितरित किए, इसके बाद उन्होंने सामाजिक अधिकारिता शिविर को संबोधित किया.


इस दौरान मोदी ने कहा, “पहले कि सरकारों के समय इस तरह के कैंप बहुत ही कम लगा करते थे और इस तरह के मेगा कैंप तो गिनती के होते थे. बीते 5 साल में हमारी सरकार ने देश के अलग-अलग इलाकों में करीब 9,000 कैंप लगवाए हैं क्योंकि 130 करोड़ भारतीयों के हितों की रक्षा करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता में है.”

उन्होंने कहा, “दिव्यांगों पर यदि कोई अत्याचार करता है या मजाक उड़ाता है तो उससे जुड़े नियमों को भी सख्त किया गया है. दिव्यांगों की नियुक्ति के लिए विशेष अभियान चले और आरक्षण तीन फीसद से बढ़ाकर चार फीसद कर दिया गया. उच्च शिक्षा संस्थानों में दाखिले का तीन फीसदी से आरक्षण बढ़ाकर पांच फीसदी कर दिया गया है. दो लाख साथियों को स्किल ट्रेनिंग दी है. हर क्षेत्र में दिव्यांगजनों की भागीदारी जरूरी है. चाहे उद्योग हो या खेल का मैदान.”

मोदी ने कहा, “मुझे याद है, पिछले साल फरवरी में, लगभग यही समय था जब मैं कुंभ के दौरान यहां आया था. आपके प्रधान सेवक के तौर पर, मुझे हजारों दिव्यांग-जनों और बुजुर्गों, वरिष्ठ जनों की सेवा करने का अभी अवसर मिला है.” उन्होंने कहा, “मैं मानता हूं कि ये उपकरण आपके बुलंद हौसलों के सहयोगी भर हैं. आपकी असली शक्ति तो आपका धैर्य है, आपका सामथ्र्य है, आपका मानस है.”

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछली सरकार के पांच साल में जहां दिव्यांगजनों को 380 करोड़ रुपए से भी कम के उपकरण बांटे गए, वहीं हमारी सरकार ने 900 करोड़ रुपए से ज्यादा के उपकरण बांटे हैं. यानि करीब-करीब ढाई गुना. बीते चार-पांच वर्षों में देश की सैकड़ों इमारतें, 700 से ज्यादा रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, दिव्यांगजनों के लिए सुगम्य बनाई जा चुकी हैं. जो बची हुई हैं, उन्हें भी सुगम्य भारत अभियान से जोड़ा जा रहा है.

Related Posts