समुद्र तल से 11,000 फीट की ऊंचाई से पीएम Modi ने दिए चीन को ये 5 Message, बढ़ी टेंशन

पीएम मोदी (PM Modi) ने इस दौरे से जहां जवानों का हौसला मज़बूत किया तो वहीं दूसरी ओर चीन (China) को भी एक साथ कई मैसेज दिए. पढ़िए आखिर चीन के लिए पीएम मोदी ने क्या संदेश दिया.
PM Modi gave these 5 measures to China from height of 11000 feet, समुद्र तल से 11,000 फीट की ऊंचाई से पीएम Modi ने दिए चीन को ये 5 Message, बढ़ी टेंशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने लद्दाख (Ladakh) के निमू (Nimoo) में सैनिकों को संबोधित किया. पीएम के इस अचानक हुए दौरे से भारत के दोनों पड़ोसियों में हलचल मच गई. जहां एक ओर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक बुला ली तो वहीं चीन ने भी पीएम के दौरे पर तुरंत रिएक्शन पर रिएक्शन दिया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

चीन की तरफ से कहा गया कि भारत और चीन (India-China) सैन्य और राजनयिक स्तर से तनाव को कम करने के लिए बातचीत कर रहे हैं. इसलिए कोई कुछ ऐसा न करे, जिससे माहौल बिगड़े. पीएम ने इस दौरे से जहां जवानों का हौसला मज़बूत किया तो वहीं दूसरी ओर चीन को भी एक साथ कई मैसेज दिए. पढ़िए आखिर चीन के लिए पीएम मोदी क्या संदेश दिया.

1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को लद्दाख के दौरे के दौरान चीन का नाम लिए बिना उसे चेतावनी देते हुए कहा अब विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया है. सशस्त्र बलों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “विस्तारवाद का युग खत्म हो गया है, यह विकास का युग है. इतिहास गवाह रहा है कि विस्तारवादी ताकतें या तो हार गई हैं या उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर होना पड़ा है.”

2. भारत की तरफ से लद्दाख क्षेत्र में बुनियादी ढांचे को विकसित करने को लेकर चीन चिंतित है. मोदी ने संकेत दिया कि भारत इस मुद्दे की दोबारा समीक्षा करने को राजी नहीं है. मोदी ने कहा, “हमने सीमा क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के विकास पर तीन गुना खर्च बढ़ाया है.”

3. पीएम मोदी ने यह संदेश भी दिया कि भारत के संयम को अन्यथा नहीं देखा जाना चाहिए. मोदी ने कहा, “हम वो लोग हैं, जो बांसुरी बजाने वाले भगवान कृष्ण की पूजा करते हैं, लेकिन हम वो लोग भी हैं जो भगवान कृष्ण को मानते हैं, जिन्होंने सुदर्शन चक्र धारण किया था.”

4. उन्होंने कहा कि राष्ट्र की, दुनिया की, मानवता की प्रगति के लिए शांति और मित्रता बहुत जरूरी है, लेकिन हम यह भी जानते हैं कि शांति निर्बल नहीं ला सकता, कमजोर शांति की पहल नहीं कर सकता. भारत आज जल, थल, नभ और अंतरिक्ष तक अगर अपनी ताकत बढ़ा रहा है, तो उसके पीछे का लक्ष्य भी शांति ही है.

5. समुद्र तल से 11,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित नीमू में पीएम मोदी ने कहा- लेह-लद्दाख से लेकर करगिल और सियाचिन तक, रेजांगला की बर्फीली चोटियों से लेकर गलवान घाटी के ठंडे पानी की धारा तक, हर चोटी, हर पहाड़, हर जर्रा-जर्रा, हर कंकड़-पत्थर, भारतीय सैनिकों के पराक्रम की गवाही देते हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Input IANS

Related Posts