सूरत हादसे पर छलका पीएम मोदी का दर्द, पढ़िए भाषण की 10 बड़ी बातें

चुनाव में बंपर जीत के बाद पीएम मोदी अपनी मां का आशीर्वाद लेने गुजरात पहुंचे हैं. इसके बाद 27 मई को काशीवासियों का धन्यवाद करने पीएम मोदी वाराणसी जाएंगे.

नई दिल्ली: जीत के बाद पीएम मोदी आज अपने गृहराज्य गुजरात में हैं. अहमदाबाद एयरपोर्ट उतरने के बाद पीएम मोदी ने सबसे पहले लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए. इस दौरान अमित शाह भी उनके साथ रहे. उसके बाद पीएम मोदी खानपुर पार्टी कार्यालय भी गए. यहां उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया.

पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें

1- सूरत में हुई आग त्रासदी ने हम सभी को दु:खी कर दिया है. हम शोक संतप्त परिवारों के साथ एकजुटता से खड़े हैं. इस दु:ख की घड़ी में सर्वशक्तिमान उन्हें शक्ति प्रदान करें. राज्य सरकार गुजरात में आपदा प्रबंधन बुनियादी ढांचे को और मजबूत कर रही है.
2- मैं उस भूमि पर वापस आ रहा हूं जिसने मेरा पालन-पोषण किया है. मैं एक ऐसे स्थान पर वापस आ गया हूं जिसके साथ मेरा एक बहुत पुराना नाता है.
3- मैं यहां गुजरात के लोगों के दर्शन के लिए आया हूं. राज्य के नागरिकों का आशीर्वाद हमेशा मेरे लिए बहुत खास रहा है.
4- खानपुर के भाजपा कार्यालय से यह पता चला कि मैंने एक संगठन से संस्कार सीखे. मुझे याद है कि 2012 में हमारी पार्टी के लोगों के जनादेश के बाद आप सभी के बीच आया था.
5- छठे चरण के मतदान के बाद मैंने खुद ही कहा था कि यह हमारे लिए 300 प्लस है. जब मैंने कहा, तो लोगों ने मेरा मजाक उड़ाया. लेकिन, नतीजे सभी को देखने हैं. इतना बड़ा जनादेश दिया जाना ऐतिहासिक है. लोगों ने तय किया था कि वे फिर से एक मजबूत सरकार चाहते हैं.
6- चुनाव प्रचार के पहले तीन दिनों के भीतर मुझे विश्वास हो गया था कि भाजपा या NDA चुनाव नहीं लड़ेंगे. भारत के लोग इस अभियान में सबसे आगे हैं.
7- हमें इन पांच वर्षों का उपयोग आम नागरिकों के मुद्दों को हल करने के लिए करना है. इन्हें सर्वांगीण विकास के लिए पांच साल होना चाहिए. हमें विश्व स्तर पर भारत की स्थिति को और बढ़ाना होगा.
8- मैंने सोशल मीडिया पर एक वीडियो देखा जिसमें प. बंगाल की एक महिला मोदी-मोदी कह रही है. जब उससे पूछा गया क्यों तो उसने कहा कि मैं गुजरात गई और वहां मैंने विकास देखा. मैं बंगाल में भी विकास चाहती हूं. लेकिन जब उस महिला से पूछा गया कि वह किसे वोट देगी तो उसने कुछ नहीं बोला.
9- आने वाले 5 साल जन-भागीदारी और जनचेतना के लिए होंगे.
10- मैं गुजरात के लोगों के दर्शन के लिए यहां मौजूद हूं. राज्य के नागरिकों का आशीर्वाद मेरे लिए हमेशा से बहुत महत्वपूर्ण है.