जापान के नए प्रधानमंत्री को PM मोदी का न्योता, दोनों नेताओं ने की फोन पर बात

दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच लंबी बातचीत हुई. पीएम मोदी ने योशिहिदे को भारत आने का न्योता भी दिया. दोनों के बीच द्विपक्षीय संबंध, पारस्परिक व्यापार और कोरोना (Covid-19) से लड़ाई पर चर्चा हुई.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 10:49 pm, Fri, 25 September 20
पीएम मोदी और योशिहिदे सुगा

आज जापान (Japan) के नए प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा (Yoshihide Suga) को भारत और चीन (China) दोनों ही देशों ने बधाई दी. भारत की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने जापान के नए पीएम को फोन किया. दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच लंबी बातचीत हुई. पीएम मोदी ने योशिहिदे को भारत आने का न्योता भी दिया. दोनों के बीच द्विपक्षीय संबंध, पारस्परिक व्यापार और कोरोना (Covid-19) से लड़ाई पर चर्चा हुई.

वहीं चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) और जापान के नए पीएम के बीच बहुत ही कम देर बातचीत हुई. दरअसल कोरोना के जन्मदाता चीन के चरित्र से जापान पिछले 7-8 महीने से बहुत ज्यादा चिढ़ा है. इसकी वाजिब वजह भी है, क्योंकि चीन किसी भी मुल्क से सच बोलता नहीं है और इसका एक और प्रमाण आज फिर दिखा है.

पूर्वी लद्दाख (Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में 15 जून को हुई हिंसा में कितने चीनी सैनिक मारे गए थे. चीन ने अब जाकर इस पर मुंह खोला है.

भारत के सामने चीन का कबूलनामा

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने भारत के साथ बैठक में पहली बार बताया है कि गलवान घाटी संघर्ष में उसके 5 सैनिक मारे गए थे. इसमें चीनी सेना का एक कमांडिंग ऑफिसर भी शामिल था. इससे पहले चीन ने केवल एक सैनिक के मरने की बात मानी थी.

इस खूनी संघर्ष में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे. चीन भले ही अभी पांच सैनिकों के ही मारे जाने की बात कर रहा हो, लेकिन अमेरिकी और भारतीय खुफिया एजेंसियों का अनुमान है कि गलवान हिंसा में कम से कम 40 चीनी सैनिक मारे गए थे.

क्वाड देशों के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों की बैठक, चीन की चुनौती से निपटने पर हुई चर्चा

मतलब धीरे-धीरे ही सही चीन पूर्वी लद्दाख में भारत के हाथों मिली हार को कबूल रहा है, लेकिन अपनी चालबाजी से बाज नहीं आ रहा है. इसलिए शांति के कबूतर उड़ाने का वादा करने और दोस्ती के कागजात पर दस्तखत के बावजूद उसने लद्दाख से अरुणाचल तक LAC पर परमाणु बॉम्बर तैनात कर दिए हैं.

LAC से LoC तक सुखोई ने की पेट्रोलिंग

इसका करारा जवाब देने के लिए आज सुखोई MKI-30 ने फॉरवर्ड एयरबेस पर उड़ान भरी. LAC से LOC तक दोनों ही मोर्चों तक सुखोई ने पेट्रोलिंग की. चीन और पाकिस्तान को हद में रहने की हिदायत दी. मालूम हो कि भारत-चीन तनातनी के बीच राफेल और मिराज समेत कई भारतीय फाइटर प्लेन और फाइटर हेलीकॉप्टर LAC के पास दमखम दिखा रहे हैं.

ये तो रही भारत की वायुशक्ति, जिसके नाम से चीन को अपना खेल खराब होता दिख रहा है, लेकिन अभी भी वो अपना बोरिया बिस्तर बांधने को तैयार नही है.