जानिए, लाल कृष्‍ण आडवाणी के ब्लॉग पर PM नरेंद्र मोदी ने क्या कहा!

लालकृष्ण आडवाणी ने काफी लंबे अरसे बाद ब्लॉग लिखा तो विपक्ष खुश हो गया. इस पर पीएम नरेंद्र मोदी ने अपना रिएक्‍शन दिया है.

नई दिल्ली: बीजेपी के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने 6 अप्रैल को पार्टी के फाउंडेशन डे से दो दिन पहले ब्लॉग लिखकर गांधीनगर की जनता के प्रति आभार जताया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. आडवाणी के इस ब्लाग पर पीएम नरेंद्र मोदी की भी प्रतिक्रिया आयी है. पीएम मोदी ने कहा कि आडवाणी जी पूरी तरह से बीजेपी का असली सार बताते हैं, विशेष रूप से ‘नेशन फर्स्ट, पार्टी नेक्स्ट, सेल्फ लास्ट.’ मुझे बीजेपी कार्यकर्ता होने पर गर्व है और लालकृष्ण आडवाणी जी ने इसे और मजबूत किया है.

क्या लिखा ब्लॅाग में ?

बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने ब्‍लॉग में लिखा कि ‘बीजेपी का संस्‍थापक सदस्‍य होने के नाते, यह मेरा कर्तव्‍य है कि मैं भारत के लोगों के साथ अपने चिंतन को साझा करूं और खासतौर से मेरी पार्टी के लाखों कार्यकर्ताओं के साथ, दोनों ने मुझे स्नेह और सम्मान से नवाजा है. आडवाणी ने ब्‍लॉग में पंडित दीनदयाल उपाध्याय, अटल बिहारी वाजपेयी से नेताओं के साथ काम करने को खुद का दुर्लभ सौभाग्य बताया.

बीजेपी नेता आडवाणी ने आगे लिखा कि उनके जीवन का सिद्धांत रहा है पहले राष्ट्र, फिर दल और अंत में मैं…और मैंने हमेशा उसपर चलने की कोशिश की है. भारतीय लोकतंत्र की ख़ासियत रही है विविधता और अभिव्यक्ति की आज़ादी.

उन्होेने आगे लिखा कि ‘मातृभूमि की सेवा करना मेरा जुनून और मेरा मिशन है, जबसे मैंने 14 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ज्वाइन किया है. मेरा राजनीतिक जीवन सात दशकों से मेरी पार्टी के साथ अटूट रहा है- पहले भारतीय जनसंघ के साथ और बाद में भारतीय जनता पार्टी और मैं दोनों का फाउंडर मेंबर रहा.’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि ‘वरिष्ठतम राजनीतिज्ञ, पूर्व डिप्टी पीएम और भाजपा के संस्थापक आडवाणी जी ने लोकतांत्रिक शिष्टाचार के बारे में जो विचार व्यक्त किया है, वह महत्वपूर्ण है.

यह भी पढ़ें- राष्‍ट्रवाद और सिद्धांतों का जिक्र कर ब्‍लॉग में आडवाणी ने दिए तीन बड़े संदेश

यह भी पढ़ें – जानें कितने ताकतवर हैं आडवाणी-जोशी से रिटायरमेंट लेने की बात कहने वाले रामलाल