देश के दुश्मन यदि डर रहे हैं तो यह ‘डर अच्छा है’: पीएम मोदी

विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जहां पूरा विश्व आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के पीछे खड़ा था वहीं देश के कुछ दल इस पर प्रश्न उठा रहे थे.

आज का भारत ‘नया भारत’ है. हमारे लिए एक-एक वीर जवान का ख़ून अनमोल है. अब कोई भी भारत को आंख दिखाने का प्रयास नहीं कर सकता. आज का भारत निर्भीक है, निडर है और निर्णायक है. सवा सौ करोड़ भारतीयों के पुरुषार्थ के कारण ही देश आज आगे बढ़ रहा है. एक निजी चैनल के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को यह बात कही.

पीएम मोदी यहां खैबरपख्तूनवा प्रांत के बालाकोट में हुए एयर स्ट्राइक को लेकर केंद्र सरकार के निर्णय की तारीफ़ कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि आतंक के आकाओं में सैनिकों के शौर्य का डर हो तो यह अच्छा है. जब भ्रष्टाचारियों में भी कानून का डर हो तो यह डर अच्छा है. अब ये नया भारत अपने सामर्थ्य, अपने साधन, अपने संसाधनों पर भरोसा करते हुए आगे बढ़ रहा है.

प्रधानमंत्री ने कहा, “भारतीयों की एकजुटता ने ही देश के भीतर और बाहर कुछ देश विरोधी लोगों में एक डर पैदा किया है. मैं यही कहूंगा कि यह डर अच्छा है. जब भगोड़ों को उनकी संपत्ति के जब्त होने का डर हो तो यह डर अच्छा है. जब दुश्मन में भारत के पराक्रम का डर हो, तो यह डर अच्छा है. जब आतंक के आकाओं में सैनिकों के शौर्य का डर हो, तो यह डर अच्छा है. जब मामा (कथित अगस्तावेस्टलेंड सौदे में बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल) के बोलने से बड़े-बड़े परिवार बौखला जाएं, तो यह डर अच्छा है.”

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज पूरा देश एक स्वर में कह रहा है कि अगर राफेल होता तो परिणाम कुछ और होते.

कांग्रेस की यूपीए सरकार पर राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद में देरी का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा, “पहले स्वार्थ की राजनीति के कारण और बाद में विरोधी राजनीति के कारण देश को बहुत नुकसान हुआ है.”

विपक्ष पर कड़ा प्रहार करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “ये लोग मोदी विरोध करते-करते देश का विरोध करने लगे हैं. जब पूरी दुनिया आतंक की लड़ाई के खिलाफ हमारे साथ खड़ी है तो कुछ दलों के नेता सेना के पराक्रम पर सवाल खड़े कर रहे हैं. इन लोगों के लेख, बयानों को पाकिस्तान सबूत की तरह पेश कर रहा है. ये लोग मोदी के विरोध में इतने गिर गए हैं कि देश का विरोध करने लगे हैं.”

मोदी ने कहा कि यह अपनी बुनियादी कमजोरियों को दूर करने का, अपनी चुनौतियों को कम करने का प्रयास कर रहा है.

उन्होंने कहा कि 2014 से 2019 और 2019 से शुरू होने वाली आगे की यह यात्रा बदलते हुए सपनों की कहानी है. निराशा की स्थिति से आशा के शिखर तक पहुंचने की कहानी है. संकल्प से सिद्धि की ओर ले जाने वाली कहानी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *