VIDEO: छात्र ने पूछा, राष्ट्रपति कैसे बनें? PM मोदी के जवाब पर हंस पड़े बच्चे

PM मोदी के साथ चंद्रयान 2 की लैंडिंग देखने भूटान के छात्र भी आए थे.

बेंगलुरु: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चंद्रयान-2 की लैंडिंग देखने के लिए बेंगलुरु के इसरो सेंटर में वैज्ञानिकों के साथ मौजूद रहे. PM मोदी के साथ 60 स्कूली बच्चे भी लैंडिंग पहुंचे थे. इस दौरान प्रधानमंत्री ने लैंडिंग देखने के लिए मौजूद विद्यार्थियों से बातचीत की और उनके सवालों का जवाब दिया.

इस दौरान एक छात्र ने पूछा, ‘मेरा लक्ष्य भारत का राष्ट्रपति बनना है. इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए.’ इस पर प्रधानमंत्री ने उस छात्र से पूछा, राष्ट्रपति ही क्यों? प्रधानमंत्री क्यों नहीं?

PM मोदी के इतना कहते ही वहां मौजूद सारे छात्र हंसने लग गए. PM मोदी ने इस दौरान छात्रों को ऑटोग्राफ भी दिया. PM मोदी के साथ चंद्रयान 2 की लैंडिंग देखने भूटान के छात्र भी आए थे. PM मोदी ने इस दौरान उनसे कहा कि उम्मीद करता हूं कि आपने यहां नए दोस्त बनाए होंगे.

‘बड़ा लक्ष्य देखें’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छात्रों से कहा कि वे जीवन में बड़ा लक्ष्य देखें और अपने लक्ष्यों को कई हिस्से में बाट लें. फिर उन छोटे-छोटे लक्ष्यों को हासिल करने की कोशिश करें.

उन्होंने छात्रों से लक्ष्यों को हासिल करने के रास्ते में निराशा को रुकावट नहीं बनने देने को कहा. उन्होंने कहा, ‘यह भूल जाओ कि आपने क्या खोया और अपने रास्ते में कभी भी निराशा को मत आने दो.’

स्पेस क्विज में सफल छात्र पहुंचे थे इसरो

आपको बता दें कि इसरो ने राष्ट्रीय स्तर पर एक स्पेस क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया था. उस प्रतियोगिता में 60 छात्रों ने सफलता पाई जिनको चंद्रयान-2 की चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग पीएम मोदी के साथ लाइव देखने के लिए आमंत्रित किया गया था.

वैज्ञानिकों का बढ़ाया हौसला 

उल्लेखनीय है कि चांद से महज 2 किलोमीटर की दूरी पर विक्रम लैंडर का संपर्क टूट गया. इससे इसरो मुख्यालय में सन्नाटा पसर गया और निराशा का माहौल बन गया. पीएम मोदी ने इस मौके पर वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया और कहा कि उनको वैज्ञानिकों पर गर्व है.

राष्ट्र आप पर गौरवान्वित है…

वैज्ञानिकों के साथ बातचीत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आपने अभी तक जो किया है, वह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है. उन्होंने कहा, ‘राष्ट्र आप पर गौरवान्वित है. आप सभी ने देश की सेवा की है और विज्ञान व मानव की एक महान सेवा की है. पूरी हिम्मत के साथ आगे बढ़िए. मैं आपके साथ हूं, सर्वश्रेष्ठ की आशा रखिए.’

ये भी पढ़ें- Chandrayaan 2: मायूसियों के बीच पीएम ने वैज्ञानिकों का बढ़ाया हौसला, जानिए किसने क्या कहा?