Ayodhya में PM मोदी लगाएंगे पारिजात का पौधा, जिसको छूने से ही मिट जाती है थकान! जानें पौराणिक महत्व

पारिजात (Parijat) या हरसिंगार का हिंदु धर्म एक खास स्थान है. यह उन प्रमुख पड़ों में से एक है, जिसके फूल भगवान की पूजा में महत्त्वपूर्ण स्थान रखते हैं. इस पर काफी सुंदर और खुशबूदार फूल आते हैं.
PM Modi will plant Parijat in Ram Mandir, Ayodhya में PM मोदी लगाएंगे पारिजात का पौधा, जिसको छूने से ही मिट जाती है थकान! जानें पौराणिक महत्व

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) बुधवार को अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण की आधारशिला रखेंगे. वहीं भूमि पूजन से पहले पीएम मोदी मंदिर परिसर में ‘पारिजात’ (Parijat) का पौधा लगाएंगे.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

भगवान की पूजा में महत्वपूर्ण पारिजात के फूल

पारिजात या हरसिंगार का हिंदु धर्म एक खास स्थान है. यह उन प्रमुख पड़ों में से एक है, जिसके फूल भगवान की पूजा में महत्त्वपूर्ण स्थान रखते हैं. इस पर काफी सुंदर और खुशबूदार फूल आते हैं.

पारिजात के पेड़ को केवल छूने से मिट जाती है थकान

ऐसा माना जाता है कि पारिजात के पेड़ को केवल छूने से ही व्यक्ति की थकान मिट जाती है. इसके पीछे एक पौराणिक मान्याता भी है कि इंद्रलोक में एक ऐसा पेड़ था, जिसको छूने से इंद्रलोक की अपसरा उर्वशी की थकान मिट जाती थी. यह पारिजात का ही पेड़ था.

पारिजात की खासियत-

  • पारिजात का पेड़ आमतौर पर 10 से 15 फीट ऊंचा होता, लेकिन कहीं-कहीं इसकी ऊंचाई 25 से 30 फीट भी होती है.
  • इस पेड़ पर लगने वाले फूल बेहद ही सुंदर, आकर्षक और खुशबूदार होते हैं.
  • पारिजात के पेड़ पर काफी मात्रा में और जल्दी-जल्दी फूल उगते हैं. इतना ही नहीं अगर हर दिन भी इसके फूल तोड़े जाएं, तो अगले दिन फिर से यह पेड़ फूलों से भरा मिलेगा.
  • एक पौराणिक मान्यता के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि पारिजात के फूल टूट कर पड़े की करीब नहीं बल्कि उससे दूर गिरते हैं.
  • ऐसा माना जाता है कि पारिजात का पेड़ समुद्र मंथन के दौरान निकला था, जिसे देवराज इंद्र ने अपनी वाटिका में लगा दिया था.
  • साल में एक महीने पारिजात पर फूल आने पर अगर इन फूलों का या फिर फूलों के रस का सेवन किया जाए, तो हृदय रोग से बचा जा सकता है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts