विदेश से लौटकर दोस्‍त अरुण जेटली के घर गए पीएम मोदी, परिवार को दी सांत्‍वना

पीएम मोदी ने जेटली की पत्‍नी और बेटे रोहन से मिलकर उन्‍हें सांत्‍वना दी. उनके साथ गृहमंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश दौरे से लौटने के बाद सीधे पूर्व वित्‍तमंत्री अरुण जेटली के घर पहुंचे. अपने पूर्व सहयोगी और करीबी मित्र के निधन से व्‍यथित प्रधानमंत्री ने उनके परिवार को ढांढस बंधाया. उनके साथ गृहमंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे.

पीएम मोदी ने जेटली की पत्‍नी और बेटे रोहन से मिलकर उन्‍हें सांत्‍वना दी. यहां उन्होंने अपने दिवंगत मित्र की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए. बाद में उन्होंने शोक संतप्त परिजनों के साथ अपनी संवेदना व्यक्त की.

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की पिछली सरकार में मंत्रिमंडल में साथ काम करने से इतर प्रधानमंत्री मोदी और जेटली का एक लंबा साथ रहा है. गुजरात में चुनाव के दौरान उन्होंने तब के मुख्यमंत्री रहे मोदी के प्रचार अभियान में बेहद करीब से काम किया.

बहरीन में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए जेटली को लेकर प्रधानमंत्री भावुक हो गए, उन्होंने कहा, “मैं कल्पना नहीं कर सकता ऐसी परिस्थिति में जब मेरा दोस्त चला गया है, मैं यहां इतने दूर हूं. कुछ दिन पहले ही हमने अपनी बहन, पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को खो दिया और आज मेरा दोस्त अरुण चला गया.”

अरुण जेटली और सुषमा स्वराज के निधन ने भाजपा में एक शून्य छोड़ दिया है. लेकिन इन दोनों के जाने का सबसे ज्यादा दुख प्रधानमंत्री मोदी को हुआ. उन्होंने दोनों के साथ एक करीबी रिश्ता साझा किया है.

भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी अपनी भावनाओं को छिपा नहीं सके, उन्होंने कहा, “ऐसे समय में जब लोग जन्माष्टमी मना रहे हैं, मैं अपने दोस्त अरुण के निधन का शोक मना रहा हूं.”

सोमवार को जेटली की अस्थियां हरिद्वार में गंगा में विसर्जित की गई थीं. जेटली का शनिवार की सुबह निधन हुआ. वह कई तरह की बीमारियों से जूझ रहे थे. उनका अंतिम संस्कार रविवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ राष्ट्रीय राजधानी के निगमबोध घाट पर हुआ. वह 66 साल के थे और कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे.

जेटली को 9 अगस्त को सांस की तकलीफ होने पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती करवाया गया था. उनकी हालत धीरे-धीरे बिगड़ती चली गई और उनको लाइफ सपोर्ट पर रखा गया था. गुर्दा प्रत्यारोपण के मरीज जेटली का गुरुवार को डायलिसिस करवाया गया था.

शुक्रवार को उनकी हालत खराब हो गई और शनिवार को दोपहर 12.07 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली.

ये भी पढ़ें

तस्वीरों में देखिए अरुण जेटली के छात्र राजनीति से केंद्रीय मंत्री बनने तक का सफर

अरुण जेटली के अंतिम संस्‍कार में चोर ने बोला धावा, बाबुल सुप्रियो समेत 11 के फोन गायब

जब अमिताभ की फिल्म के लिए अरुण जेटली ने लड़ी थी कानूनी जंग, जानें क्या है मामला?