PM मोदी ने पहली बार शाम को की ‘मन की बात’, कहा- हिंसा से नहीं सुलझ सकता कोई भी मुद्दा

पीएम मोदी ने मन की बात में ब्रू रियांग समुदाय के बारे में भी बात की. पीएम मोदी ने कहा कि यह नया साल ब्रू रियांग समुदाय के लोगों के लिए उम्मीद की एक नई किरण लेकर आया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल का पहला मन की बात कार्यक्रम रविवार को किया. इस कार्यक्रम की सबसे खास बात यह रही कि यह शाम को हुआ, क्योंकि 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस होने के चलते सुबह राजपथ पर कार्यक्रम का आयोजन हुआ था, जिसमें पीएम मोदी शामिल हुए थे.

इस बार मन की बात में पीएम मोदी ने कहा कि हिंसा किसी भी मुद्दे का समाधान नहीं हो सकती. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बातचीत के ज़रिए बिना कोई नई समस्‍या खड़ी किए कोई भी मुद्दा सुलझाया जा सकता है.

एकजुटता हर मुद्दे की चाबी

पीएम मोदी ने हिंसा और हथियारों के बल पर समस्‍याओं का समाधान खोज रहे लोगों को मुख्‍य धारा में लौटने की अपील की है. प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वोत्‍तर में उग्रवाद में बहुत कमी आई है. यहां के मुद्दों को शांति और ईमानदारी के साथ चर्चा के ज़रिए सुलझाया जा रहा है.

इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि एकजुटता प्रत्‍येक मुद्दे के समाधान की चाबी है और भाईचारे से लोगों को बांटने के प्रत्‍येक प्रयास को विफल किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले असम में आठ उग्रवादी गुटों के 644 लोगों ने अपने हथियारों के साथ सरेंडर किया और देश की प्रगति में भागीदार बनने के लिए शांति पर भरोसा जताया.

पिछले साल त्रिपुरा में 80 से अधिक लोगों ने हिंसा का रास्‍ता छोड़ा. पीएम ने कहा कि जिन्‍होंने समस्‍याओं को सुलझाने के लिए हथियार उठाए थे अब वो भरोसा करते हैं कि विवाद को केवल शांति और मिलकर सुलझाया जा सकता है.

ब्रू रियांग समुदाय के लिए उम्मीद की नई किरण

पीएम मोदी ने मन की बात में ब्रू रियांग समुदाय के बारे में भी बात की. पीएम मोदी ने कहा कि यह नया साल ब्रू रियांग समुदाय के लोगों के लिए उम्मीद की एक नई किरण लेकर आया है.

हाल ही में दिल्ली में हुए एक समझौते ने इस 25 साल पुराने ब्रू रियांग संकट का अंत कर दिया है. अब करीब 34 हजार ब्रू शरणार्थिंयों को त्रिपुरा में फिर से बसाया जाएगा और सरकार इनके पुनर्वास और विकास के लिए लगभग 600 करोड़ रुपये की मदद करेगी. ल

 

ये भी पढ़ें-   युद्ध के लिए हथियारों का स्टॉक तैयार कर रही सेना, चीन और पाकिस्तान की बढ़ेगी टेंशन

बर्फ के पहाड़ में फंसी लड़की, फरिश्ता बने Tinder ने बचाई जान

Related Posts