भारी विरोध झेल रहे खेती से जुड़े अध्यादेशों पर बोले पीएम नरेंद्र मोदी – किसानों से झूठ बोल रहा विपक्ष

खेती-किसानी से जुड़े जिन तीन बिलों (Agriculture Bills) का विरोध किया जा रहा है उसपर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी बयान आया गया है. उन्होंने कहा कि जिन बदलावों को किया जा रहा है उनको दूसरी पार्टी ने खुद अपने घोषणापत्र में जगह दी थी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 1:40 pm, Fri, 18 September 20
PM MODI

खेती-किसानी से जुड़े जिन तीन बिलों (Agriculture Bills) का विरोध किया जा रहा है उसपर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी बयान आया गया है. उन्होंने कहा कि जिन बदलावों को किया जा रहा है उनको दूसरी पार्टी ने खुद अपने घोषणापत्र में जगह दी थी. यह भी कहा कि किसानों को मनगढ़ंत बातें करकर विरोध में उतारा जा रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में पास बिल को किसानों के लिए हितैषी करार दिया है. पीएम ने नए बिल- कृषि उपज वाणिज्य एवं व्यापार (संवर्धन एवं सुविधा) और दूसरा बिल किसान समझौता और कृषि सेवा बिल(बंदोबस्ती एवं सुरक्षा) को किसानों के लिए जबरदस्त फायदेमंद और कृषि व्यवसाय से बिचौलियों की मुक्ति वाला बताया. पीएम ने इस बिल का विरोध कर रहे कांग्रेस और विपक्षी दलों पर करारा जबाब भी दिया है.

बिहार में कोसी रेल महासेतु (Kosi Rail Mahasetu) का उद्घाटन करते वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने खेती से जुड़े तीन विधेयकों का जिक्र किया. कार्यक्रम में मोदी ने क्या-क्या कहा जानिए

  • किसान और ग्राहक के बीच जो बिचौलिए होते हैं, जो किसानों की कमाई का बड़ा हिस्सा खुद ले लेते हैं, उनसे बचाने के लिए ये विधेयक लाए जाने बहुत आवश्यक थे. ये विधेयक किसानों के लिए रक्षा कवच बनकर आए हैं.
  • जो लोग दशकों तक सत्ता में थे आज किसानों को भरमा रहे हैं. झूठ बोल रहे है. कल विश्वकर्मा जयंती के दिन, लोकसभा में ऐतिहासिक कृषि सुधार विधेयक पारित किए गए हैं. लेकिन जो लोग दशकों तक सत्ता में रहे हैं, देश पर राज किया है, वो लोग किसानों को इस विषय पर भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं, किसानों से झूठ बोल रहे हैं.
  • जिस APMC एक्ट को लेकर अब ये लोग राजनीति कर रहे हैं, एग्रीकल्चर मार्केट के प्रावधानों में बदलाव का विरोध कर रहे हैं, उसी बदलाव की बात इन लोगों ने अपने घोषणापत्र में भी लिखी थी. लेकिन अब जब एनडीए सरकार ने ये बदलाव कर दिया है, तो ये लोग इसका विरोध करने पर उतर आए हैं.

पढ़ें – एमएसपी पर फसलों की खरीद रहेगी जारी, नहीं पड़ेगा कोई फर्क, कृषि बिल के विरोध पर सरकार ने दिए जवाब

  • अब ये दुष्प्रचार किया जा रहा है कि सरकार के द्वारा किसानों को MSP का लाभ नहीं दिया जाएगा. ये भी मनगढ़ंत बातें कही जा रही हैं कि किसानों से धान-गेहूं इत्यादि की खरीद सरकार द्वारा नहीं की जाएगी. ये सरासर झूठ है, गलत है, किसानों को धोखा है.
  • कोई भी व्यक्ति अपना उत्पाद, दुनिया में कहीं भी बेच सकता है, जहां चाहे वहां बेच सकता है. लेकिन केवल मेरे किसान भाई-बहनों को इस अधिकार से वंचित रखा गया था. अब नए प्रावधान लागू होने के कारण किसान अपनी फसल को देश के किसी भी बाजार में, अपनी मनचाही कीमत पर बेच सकेगा.
  • मैं आज देश के किसानों को स्पष्ट संदेश देना चाहता हूं। आप किसी भी तरह के भ्रम में मत पड़िए. इन लोगों से देश के किसानों को सतर्क रहना है. ऐसे लोगों से सावधान रहें जिन्होंने दशकों तक देश पर राज किया और जो आज किसानों से झूठ बोल रहे हैं.