Delimitation के बाद जम्मू कश्मीर में होंगे चुनाव, होगा अपना मुख्यमंत्री- लाल किले से बोले PM मोदी

पीएम मोदी ने अपने भाषण के दौरान कहा, "जम्मू-कश्मीर में परिसीमन की प्रक्रिया चल रही है. एक बार जब यह पूरी हो जाएगी, तो एक चुनाव होगा. जम्मू और कश्मीर का अपना मुख्यमंत्री और मंत्री होगा. हम इसके लिए प्रतिबद्ध हैं."

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के बीच आज देश 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज 7वीं बार लालकिले पर तिरंगा फहराया, जिसके बाद उन्होंने इस मौके पर राष्ट्र को संबोधित किया. इस मौके पर पीएम ने कहा कि जम्मू कश्मीर में जल्द ही चुनाव हो सकते हैं. परिसीमन (Delimitation) की प्रक्रिया पूरी हो रही है, जिसके खत्म होते ही उन्होंने चुनाव कराने की देश की प्रतिबद्धता व्यक्त की.

पीएम मोदी ने अपने भाषण के दौरान कहा, “जम्मू-कश्मीर में सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्‍यायमूर्ति के नेतृत्‍व परिसीमन की प्रक्रिया चल रही है. एक बार जब यह पूरी हो जाएगी, तो एक चुनाव होगा. जम्मू और कश्मीर का अपना मुख्यमंत्री और मंत्री होगा. हम इसके लिए प्रतिबद्ध हैं.”

ये एक साल जम्मू कश्मीर की एक नई विकास यात्रा का

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये एक साल जम्मू कश्मीर की एक नई विकास यात्रा का साल है. ये एक साल जम्मू कश्मीर में महिलाओं, दलितों को मिले अधिकारों का साल है! ये जम्मू कश्मीर में शरणार्थियों के गरिमापूर्ण जीवन का भी एक साल है. लोकतंत्र की सच्ची ताकत स्थानीय इकाइयों में है. हम सभी के लिए गर्व की बात है कि जम्मू-कश्मीर में स्थानीय इकाइयों के जनप्रतिनिधि सक्रियता और संवेदनशीलता के साथ विकास के नए युग को आगे बढ़ा रहे हैं. बीते वर्ष लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाकर, वहां के लोगों की बरसों पुरानी मांग को पूरा किया गया है. हिमालय की ऊंचाइयों में बसा लद्दाख आज विकास की नई ऊंचाइयों को छूने के लिए आगे बढ़ रहा है.

जम्मू कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने के बाद स्वतंत्रता दिवस पर ये प्रधानमंत्री का दूसरा भाषण है. पिछले साल, जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 को खत्म किए जाने के तीन दिन बाद और भारत के 73 वें स्वतंत्रता दिवस से एक हफ्ते पहले, पीएम मोदी ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर लंबे समय तक केंद्र शासित प्रदेश नहीं रहेगा.

प्रधानमंत्री ने कहा, “हम चाहते हैं कि चुनाव हों. लोगों को जल्द ही अपने चुने हुए प्रतिनिधियों को चुनने का मौका मिलेगा. वो अपने विधायकों, उनके मंत्री और मुख्यमंत्री का चयन करेंगे.”

Related Posts