सैम पर शर्मिंदगी…! पढ़ें किसने कहा- गुरु ऐसा है तो चेला कैसा निकलेगा

राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले सैम पित्रोदा ने बालाकोट में हुई एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाए थे. पित्रोदा की इस बात से कांग्रेस मुश्किल में घिरती नजर आ रही है.

नई दिल्ली: राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले और विदेश में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा के पुलवामा हमले को लेकर दिए बयान पर हंगामा मचा हुआ है. पित्रोदा ने पुलवामा आतंकी हमले के जवाब में भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए बालाकोट एयर स्ट्राइक के दौरान हुई मौत के आंकड़ों पर सवाल उठाया था. इसे लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों के ही नेता उनकी कड़ी आलोचना कर रहे हैं.

केंद्रिय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पित्रोदा के बयान को लेकर राहुल गांधी पर भी निशाना साधा है. उन्होंने कहा, “अगर गुरु ऐसा है तो शिष्य कितना निकम्मा निकलेगा, ये देश को आज भुगतना पड़ रहा है.”

उन्होंने कहा, “वो ऐसा मानते हैं कि जो हमने किया वह गलत था. दुनिया का कोई भी देश नहीं कह कहा, यहां तक की ओआईसी ने भी ये बात नहीं कही. सिर्फ पाकिस्तान की ऐसी राय थी. यह दुर्भाग्य है कि ऐसे लोग पार्टी के एक पार्टी आदर्श हैं.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा गांधी परिवार के सबसे विश्वासपात्र सलाहकार ने भारतीय सेना को गलत ठहराने की कोशिश की है जो बेहद शर्मनाक है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने पाकिस्तान नेशनल डे मनाना शुरू कर दिया है.

पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस आतंक के खिलाफ पुख्ता कदम उठाना नहीं चाहती थी. कांग्रेस के दरबारियों ने देश को ये बात एक बार फिर से बता दिया है.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने सैम पित्रोदा के बयान को गलत बताया है. उन्होंने कहा कि जब घटना की पूरी जानकारी नहीं हो तो बयान भी नहीं देते. पित्रोदा कोई रक्षा विशेषज्ञ नहीं हैं. उन्हें कोई दिक्कत है तो अपनी दिक्कत अपने पास रखें.

उन्होंने कहा, “देश की आंतरिक सुरक्षा और देश के सम्मान की रक्षा सेना कैसे करेगी, ये सेना हमसे बेहतर जानती है. राहुल गांधी की एयर स्ट्राइक पर क्या राय है, ये राहुल ने ट्वीट कर पहले ही देश की जनता को बता दिया है.”

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इसे ‘चौंकाने वाली कोशिश’ बताया है. उन्होंने कहा, “सैम पित्रोदा को शर्म आनी चाहिए. एक तरफ तो वो पाकिस्तान को क्लीन चिट दे रहे हैं और दूसरी ओर वह एयर स्ट्राइक को लेकर मोदी सरकार की आलोचना कर रहे हैं. पाकिस्तान को आतंकवाद से अलग करने की यह चौंकाने वाली कोशिश है.”

बता दें कि न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए एक इंटरव्यू में पित्रोदा ने कहा, “अगर उन्होंने (वायु सेना) 300 लोगों को मारा है, ठीक है. मैं सिर्फ ये कह रहा हूं कि आप मुझे और तथ्य दीजिए और इसे साबित कीजिए.”

उन्होंने कहा, “मुझे पुलवामा हमले के बारे में बहुत कुछ नहीं पता है, यह हर समय होता है, मुंबई में भी हमला हुआ था, हम तब प्रतिक्रिया दे सकते थे और अपने विमान भेज सकते थे लेकिन मेरे हिसाब से यह सही दृष्टिकोण नहीं है. इस तरीके से दुनिया के साथ व्यवहार नहीं किया जाता है. आठ लोग आए (26/11 हमले के संदर्भ में) और कुछ कर के चले गए, इसकी वजह से आप पूरे देश पर नहीं टूट पड़ते हैं.”