UAE में बोले PM मोदी- निवेश के लिए भारत में अपार संभावनाएं, किसी को घाटा नहीं होगा

भारतीय स्टार्टअप्स फूड डिलिवरी से लेकर ट्रांसपोर्ट, हॉस्पिटेलिटी से लेकर मेडिकल ट्रीटमेंट और टूरिज्म पर काम कर रहे हैं.
pm narendra two days UAE, UAE में बोले PM मोदी- निवेश के लिए भारत में अपार संभावनाएं, किसी को घाटा नहीं होगा

दुबई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) एक दिन की सऊदी अरब (UAE) की ऑफिसियल दौरे पर पहुंचे हुए हैं. मंगलवार को रियाद में आयोजित तीसरे भविष्य निवेश पहल मंच (फ्यूचर इनवेस्टमेंट इनिसिएटिव फोरम, एफआईआई फोरम) में पीएम मोदी ने अपनी बात रखी.

एफआईआई (FII) फोरम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि ‘भारत में एक अरब अमेरिकी डॉलर से ज्यादा मूल्य वाले यूनिकॉर्न की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. हमारे कई स्टार्टअप्स वैश्विक स्तर पर निवेश करने लगे हैं.

पीएम मोदी के संबोधन की बड़ी बातें

भारतीय स्टार्टअप्स फूड डिलिवरी से लेकर ट्रांसपोर्ट, हॉस्पिटेलिटी से लेकर मेडिकल ट्रीटमेंट और टूरिज्म पर काम कर रहे हैं. विश्व के सभी निवेशक, खासकर वेंचर फंड्स से मेरा अनुरोध है कि आप हमारे स्टार्टअप इकोसिस्टम का लाभ उठाएं. भारत में इनोवेशन में किया गया गया निवेश सबसे ज्यादा रिटर्न देगा.

FII का उद्देश्य न केवल आर्थिक व्यवस्था पर चर्चा करना है, बल्कि दुनिया के बढ़ते रुझानों को समझना और वैश्विक कल्याण के उद्देश्य के तरीकों की तलाश करना है.

सऊदी अरब के साथ हमारे संबंध कई साल पुराने हैं. हमारे प्राचीन संबंधों ने हमारी रणनीतिक साझेदारी के लिए एक मजबूत आधार बनाया है.

भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्ट-अप इकोसिस्टम बन गया है. यहां तक कि भारत के टियर-2 और 3 शहरों में भी स्टार्टअप शुरू हो गए हैं. हमारे स्टार्ट-अप ने वैश्विक स्तर पर निवेश करना शुरू कर दिया है. मैं दुनिया के निवेशकों को हमारे स्टार्ट-अप इकोसिस्टम से लाभ उठाने के लिए आमंत्रित करता हूं.’

स्किल इंडिया पहल के तहत आने वाले 3-4 वर्षों में 400 मिलियन लोगों को अलग अलग कौशल के तहत प्रशिक्षित किया जाएगा. यह भारत में निवेश करने वाली कंपनियों को कुशल जनशक्ति मुहैया कराएगा.

2024 तक हमारा लक्ष्य रिफाइनरी, पाइपलाइन, गैस टर्मिनल में 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश करना है. मुझे खुशी है कि सऊदी अरामको ने वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी प्रोजेक्ट में निवेश करने का फैसला किया है जो एशिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी होगी.

Related Posts