2022 तक भारत में शामिल हो जाएगा PoK, बोले शिवसेना सांसद संजय राउत

'मुझे भरोसा है कि 2022 के पहले पीओके भी आ जाएगा. सब हमारे साथ हैं, अखंड हिंदुस्तान का टारगेट पूरा करके रहेंगे.'

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद से पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) को लेकर लगातार चर्चा हो रही है. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के बाद अब शिवसेना के नेता व राज्यसभा सांसद संजय राउत ने भी पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर को लेकर बड़ा बयान दिया है. संजय राउत ने कहा है कि पूरा कश्मीर हिंदुस्तान का है और 2022 तक पाक अधिकृत कश्मीर भी भारत में शामिल हो जाएगा.

संजय राउत ने कहा, ‘मोदी जी ने ट्रंप को साफ कहा है कि जम्मू कश्मीर हमारा आंतरिक मामला है. 370 के हटने के बाद अब पाकिस्तान भी मानने लगा है. हिंदुस्तान ने कश्मीर पर पूरा कब्जा कर लिया है. इमरान खान की बॉडी लैंग्वेज देख लिया ना, रंग उड़ गया है.अब कुछ दिनों में पीओके भी हमारा होगा.

शिवसेना नेता ने आगे कहा, ‘अब ये बात सब करने लगे है कि पूरा कश्मीर हिंदुस्तान का है. मुझे भरोसा है कि 2022 के पहले पीओके भी आ जाएगा. सब हमारे साथ हैं, अखंड हिंदुस्तान का टारगेट पूरा करके रहेंगे.’

इससे पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुद्दे पर कहा, ‘यह केवल मेरी या मेरी पार्टी की प्रतिबद्धता नहीं है बल्कि यह 1994 में पीवी नरसिंह राव के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा सर्वसम्मति से पारित संकल्प है. यह एक स्वीकार्य रुख है.’

अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त करने पर पाकिस्तान की ओर से शुरू किये गए दुष्प्रचार अभियान पर जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने कहा कि विश्व का रुख भारत के अनुकूल है. उन्होंने कहा, ‘कुछ देश जो भारत के रुख से सहमत नहीं थे, अब वे हमारे रुख से सहमत हैं.’ उन्होंने कहा कि कश्मीर में आम आदमी मिलने वाले लाभों को लेकर खुश है.

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कश्मीर मंगलवार को कहा था कि कश्मीर न तो बंद है और ना ही कर्फ्यू के साए में है, बल्कि वहां सिर्फ कुछ पाबंदियां लगी हुई हैं. उन्होंने देश विरोधी ताकतों को चेतावनी दी कि उन्हें जल्द उस मानसिकता को बदलना होगा कि वे कुछ भी करने के बाद बच निकलेंगे.

जितेंद्र सिंह ने पत्रकारों से कहा, ‘हमें ऐसे बयानों (कश्मीर कर्फ्यू के साए में है और पूरी तरह से बंद है) की निंदा करने की जरूरत है. कश्मीर बंद नहीं है. वहां कर्फ्यू नहीं है. अगर कर्फ्यू होता तो लोगों को ‘कर्फ्यू पास’ के साथ बाहर निकलना होता.’

उन्होंने कहा, ‘किसी व्यक्ति से कर्फ्यू पास नहीं मांगा गया लेकिन उनसे उम्मीद की जाती है कि वे शांति भंग नहीं करें. वहां कुछ प्रतिबंध है.’ वह नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की प्रथम 100 दिन की उपलब्धियां गिनाने के लिए यहां संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि कश्मीर में धीरे-धीरे हालात सामान्य हो रहे हैं.