पंजाब में पकड़ा गया ISI का जासूस, व्हाट्सअप से भेजता था गोपनीय सूचनाएं

पुलिस के अनुसार आरोपी मोहम्मद परवेज नकली पहचान का उपयोग करते हुए भारती सैनिकों को हनी ट्रैप का शिकार बनाता था. इसके बाद सेना की गोपनीय और रणनीतिक जानकारियां लेकर उसे आईएसआई को भेज देता था.

नई दिल्ली: पंजाब पुलिस को एक बड़ी कामयाबी मिली है. पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को गुप्त सैन्य सूचनाएं देने के आरोप में पंजाब के फरीदकोट से एक व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस ने बताया कि आरोपी के पास से ऐसे दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं, जो अपराध की ओर संकेत करते हैं. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने एक टीवी न्यूज चैनल को बताया कि मोगा जिले का निवासी सुखविंदर सिंह सिद्धू पिछले कुछ समय से फरीदकोट में रह रहा था. वह कई साल पहले एक यात्रा के दौरान कथित तौर पर पड़ोसी देश के एजेंटों के संपर्क में आया था.

अधिकारी यदविंदर सिंह ने कहा, “सुखविंदर गुरु नानक की जयंती मनाने के लिए नवंबर 2015 में तीर्थयात्रा पर पाकिस्तान गया था. इसके बाद वह तीन पाकिस्तानी नागरिकों के संपर्क में आया जिन्हें उसने वाट्सएप के जरिए गुप्त सैन्य जानकारी भेजना शुरू किया.” उन्होंने बताया कि आरोपी को राज्य पुलिस के खुफिया विभाग द्वारा सेना के पास के इलाके से गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस के अनुसार आरोपी मोहम्मद परवेज नकली पहचान का उपयोग करते हुए भारती सैनिकों को हनी ट्रैप का शिकार बनाता था. इसके बाद सेना की गोपनीय और रणनीतिक जानकारियां लेकर उसे आईएसआई को भेज देता था. पूछताछ के दौरान उसने कथित तौर पर आईएसआई संचालकों के संपर्क में रहने के लिए पिछले 18 सालों में 17 बार पाकिस्तान की यात्रा की बात कबूल की थी.

सेना के खुफिया विभाग ने एक संदिग्ध पाकिस्तानी एजेंट को लेकर एक एडवाइजरी जारी की थी. इसमें कहा गया था कि दु्श्मन के संदिग्ध जासूस सेना के अधिकारियों और स्पेशल फोर्सेस के जवानों को हनी ट्रैप का निशाना बना रहे हैं. सैन्य खुफिया निदेशालय की इस एडवाइजरी में संदिग्ध जासूस की तस्वीर के साथ इंस्टाग्राम प्रोफ़ाइल ‘ओएसोम्या’ का हवाला दिया गया था.

एसएसपी राजबचन सिंह संधू ने बताया कि पुलिस ने आरोपी के खिलाफ थाना कोतवाली में ऑफिसियल सीक्रेट एक्ट 1923 की धारा 3,5,9 समेत आईपीसी की धारा 120बी के तहत केस दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी गई है. पुलिस द्वारा आरोपी को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है और उसके साथियों का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है.