पुलिस ने बदला गश्त का तरीका, Lockdown में मिली छूट का फायदा नहीं उठा सकेंगे क्रिमिनल्स

जनता भी सुरक्षित रहे और पुलिस पर भी कोरोनावायरस (Coronavirus) का असर न हो, इसके लिए पुलिस आयुक्त (Commissioner) ने बेजोड़ फार्मूला खोजा है. अब गश्त में एक मोटर साइकिल पर पुलिस का एक ही जवान चलेगा.
Changes in the way police work, पुलिस ने बदला गश्त का तरीका, Lockdown में मिली छूट का फायदा नहीं उठा सकेंगे क्रिमिनल्स

कोरोनावायरस (Coronavirus) यानि कोरोना महामारी ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के काम-काज के तरीके में भी कई बदलाव ला दिये हैं. कुछ दिन पहले दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने डेली डायरी को मोटर साइकिल राइडर द्वारा भेजे जाने पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी थी, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग के पालन पर असर न आए. अब कोरोना से बचाव और शहर को सुरक्षित रखने के लिए महकमे (Department) ने एक और बड़ा बदलाव किया है. यह बदलाव “गश्त” के तौर-तरीकों में किया गया है.

अपराधी न उठा सकें लॉकडाउन में मिली छूट का फायदा

दिल्ली पुलिस मुख्यालय सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस आयुक्त (Commissioner) एस.एन.श्रीवास्तव (SN Srivastava) ने पुलिस के जवानों और अफसरों की सुरक्षा को प्राथमिकता (Priority) पर रखा है. साथ ही कोरोनावायरस के बाद लॉकडाउन-4 (Lockdown-4) में मिली छूट का फायदा अपराधी न उठा सकें, इसके लिए कुछ बदलाव किए हैं. क्योंकि छूट मिलने से अब स्ट्रीट क्राइम (Street Crime) बढ़ने की भी आशंकाएं ज्यादा दिखाई देने लगी हैं. लॉकडाउन में जो अपराधी घरों में दुबके बैठे थे, वे भी लॉकडाउन में छूट मिलते ही अपराधों को अंजाम देने से बाज नहीं आयेंगे.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

गश्त में चलेगा एक मोटर साइकिल पर एक ही जवान

जनता भी सुरक्षित रहे और पुलिस पर भी कोरोनावायरस का असर न हो, इसके लिए पुलिस आयुक्त ने बेजोड़ फार्मूला खोजा है. दिल्ली पुलिस मुख्यालय सूत्रों के मुताबिक, दो काम एक साथ हो जायें, इसके लिए अब गश्त में एक मोटर साइकिल पर पुलिस का एक ही जवान चलेगा.

अब तक गश्त के दौरान एक मोटर साइकिल पर हथियार के साथ दो पुलिसकर्मी चला करते थे. दो मोटर साइकिलों पर दो अलग-अलग जवानों के चलने के पीछे वजह सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) ही है, ताकि दोनों सिपाही या हवलदार ड्यूटी पर एक साथ तो रहें, लेकिन दो अलग-अलग मोटर साइकिलों पर अलग-अलग रहने से उनके कोरोना संक्रमित होने की आशंका कम हो जाएगी.

स्ट्रीट क्राइम को रोकने का नया फार्मूला

पुलिस मुख्यालय सूत्रों की मानें तो, अब लॉकडाउन 4.0 में मिली छूट के चलते स्ट्रीट क्राइम से जुड़े अपराधी घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं. लिहाजा स्ट्रीट क्राइम और क्रिमिनल्स को काबू में करने का भी फार्मूला खोज लिया गया है.

स्ट्रीट क्राइम रोकने के लिए “दिल्ली के 15 जिलों में मौजूद प्रखर वाहनों को अलर्ट कर दिया गया है. क्योंकि मुख्य रूप से प्रखर वाहन (Intensive Vehicles) स्ट्रीट क्राइम रोकने के लिए ही दिल्ली पुलिस के बेड़े में शामिल किये गये हैं.” पुलिस मुख्यालय ने प्रखर वाहनों और ड्यूटी पर लगे अन्य तमाम वाहनों पर मौजूद स्टाफ के लिए कई गाइडलांइस सिर्फ और सिर्फ कोरोना से बचाव के चलते जारी की हैं.

संक्रमण से बचने के लिए अब हर पुलिसकर्मी लगाएगा मास्क

अब गश्त पर मौजूद कोई भी वाहन बिना सैनिटाइजेशन (Sanitization) के इस्तेमाल में नहीं लाया जायेगा. साथ ही हर पुलिस वाहन में सैनिटाइजर, साबुन और पानी रखा जाना अनिवार्य कर दिया गया है. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से बचाव के लिए अब हर पुलिसकर्मी खुद तो मास्क इस्तेमाल करेगा ही. इसी के साथ-साथ वह अपने वाहन में अलग से भी मास्क रखेगा, ताकि अगर कोई नया शख्स उसके वाहन में बैठे तो उसे भी सैनिटाइज करके मास्क पहनाकर ही पुलिस वाहन के अंदर प्रवेश करने दिया जाये.

किसी इमरजेंसी में जाएगा विशेष वाहनों का इस्तेमाल

नई गाइडलाइंस के मुताबिक, आपात स्थिति में अगर पुलिस वालों को किसी शव को अस्पताल या फिर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचाना होगा, तो वे उसे अपने वाहन में नहीं रखेंगे. शव को पुलिसकर्मी किसी टेंपो आदि से भी नहीं ले जायेंगे. इसके लिए पुलिसकर्मी विशेष तौर पर चिन्हित या तैयार किये गये वाहनों का ही इस्तेमाल करेंगे.

इतना ही नहीं दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने कोरोना से बचाव के चलते ही ड्रंकन ड्राइविंग (Drunken Driving) अभियान भी बंद रखने का नियम अभी भी जारी रखा है, ताकि जांच के दौरान ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को किसी बाहरी इंसान के संपर्क में न आना पड़े. उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस में कोरोना का शिकार भी सबसे पहले ट्रैफिक पुलिस का ही एक सहायक उप निरीक्षक हुआ था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts